गृहमंत्री के फॉलो गार्ड वाहन से हुई जबरजस्त टक्कर, युवक गम्भीर रूप से घायल ,सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की खुली पोल , स्थानीय जनों में आक्रोश

अजय तिवारी
प्रतापपुर-छत्तीशगढ़ शासन के गृहमंत्री रामसेवक पैकरा के साथ चल रहे फॉलो गार्ड के बोलेरो वाहन की टक्कर
से  होनहार  छात्र प्रिंस गुप्ता गंभीर रूप से घायल हो गया जिसको गम्भीर अवस्था मे मेडिकल कालेज अम्बिकापुर रिफर कर दिया गया है ।
 प्राप्त जानकारी के अनुसार सोमवार को
8:00 बजे रात के लगभग गृहमंत्री का काफिला नगर से गुजर रहा था उसी वक्त विपरीत दिशा  से मोटरसाइकिल में छात्र प्रिंस गुप्ता रहा था  गृहमंत्री के साथ चल रहे काफिले के चार चक्के वाहनों की रोशनी के
कारण कुछ नही दिख पाने से अनियंत्रित होकर गिर पड़ा ।
वही सूत्रों ने यह भी बताया की गृहमंत्री के काफिले में चल रही वाहन जिसमे युवक का टक्कर हुआ वह मस्जिद के सामने खड़ी थी किंतु उसकी मेंन हेड  लाइट बल्ब जल रहा था जिस कारण युवक की आंखे चकमका गयी और आंखों में अंधेरा छाने की वजह से खड़ी वाहन से जा टकराया ।वहीं उन्होंने यह भी बताया की टक्कर लगने के बाद युवक  बेहोश हो गया।जिसके बाद  मौके पर सैकड़ो की संख्या में आम नागरिकों की भीड़ इकट्ठी हो गई तथा लोगों ने जलती हुई लाइट में खड़े किए  वाहन पर नाराजगी जाहिर भी जाहिर किया।
 प्रतापपुर स्वास्थ्य केंद्र में गंभीर अवस्था में युवक प्रिंस गुप्ता को प्राथमिक उपचार के बाद  तत्काल जिला अस्पताल अंबिकापुर रेफर कर दिया डॉक्टरों ने बताया कि युवक के सर में चोट आने के कारण कान से लगातार रक्त  बह रहा था जिसको गंभीरता से लेते हुए बेहतर इलाज हेतु जिला अस्पताल रेफर किया गया है।घायल प्रिंस गुप्ता  नगर के प्रिंस बर्तन भंडार के संचालक विंध्याचल गुप्ता के पुत्र व  भाजपा के पार्षद लाल बहादुर गुप्ता के भतीजा है।
इस घटना से नाराज ग्रामीण….
गृहमंत्री रामसेवक पैकरा उक्त घटना के बाद भी गंभीर युवक का हाल समाचार नहीं लिया जिससे नगर में गृह मंत्री के प्रति काफी आक्रोश पनपता हुआ दिखाई दिया आम नागरिकों ने कहा कि उक्त घटना गृहमंत्री रामसेवक पैकरा के काफिले से हुई है । घटना  घटित होने के पश्चात  गृहमंत्री प्रतापपुर पहुचे थे तो कमसे मंत्री को कम से कम सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचकर नगर के प्रिंस गुप्ता का हाल समाचार व बेहतर इलाज के सुझाव देने चाहिए थे मगर इस तरह की दरियादिली नहीं दिखाते हुए गृह मंत्री का काफिला नगर से निकल गया।
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र प्रतापपुर की खुली पोल
 गृह मंत्री के विधानसभा क्षेत्र में सबसे बड़े अस्पताल के रूप में जाने जाने वाले अस्पताल में घायल के इलाज के लिए कोई जिम्मेदार डॉक्टर नहीं होने के कारण आम जनता में अस्पताल के लचर व्यवस्था को लेकर भी भारी आक्रोश दिखा ।परिजनों ने रो-रो कर कई डॉक्टरों को फोन करने का प्रयास किया मगर किसी से सम्पर्क नही हो सका ।  देर रात फोन करने के बाद   डॉक्टर डॉ विश्वकर्मा पहुचे जिन्होंने  प्राथमिक इलाज करने के बाद तत्काल अंबिकापुर रेफर कर दिया गया ।
स्थानीय लोगो ने बताया की  प्रतापपुर  सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के इस लचर व्यवस्था के कारण आए दिन यहां पर समस्याएं बनी रहती है। जब रात के 8:00 बजे स्वास्थ्य केंद्र का ऐसा लचर व्यवस्था देखने को मिला तो रात्रिकालीन आने वाले मरीजों के साथ भला क्या होता होगा तथा स्थानीय नागरिकों ने अस्पताल के प्रति अपना आक्रोश जताते हुए व्यवस्था सुधारने की मांग भी की है।