नाबालिक स्कूली बच्चों को दुपहिया वाहन देने पर पुलिस ने अभिभावकों को थाने में किया तलब

प्रवेश गोयल
सूरजपुर- शहर में बढ़ती सड़क दुर्घटनाओं को नियंत्रित करने की दृष्टि से कोतवाली थाना प्रभारी दीपक पासवान ने आज अभियान चलाकर नाबालिक बच्चों को स्कूटी अथवा मोटरसाइकिल न चलाने की समझाइश दी. उन्होंने नाबालिक बच्चों की स्कूटी व बाइक को रोककर उनके परिजनों को मौके पर बुलाया और दुर्घटना की दृष्टि से नाबालिक को दो पहिया वाहन ना देने और सुरक्षा दृष्टि से साइकिल अथवा स्कूल बस से बच्चों को स्कूल भेजने की समझाइश दी।
गौरतलब है कि कोतवाली पुलिस थाना प्रभारी दीपक पासवान इन दिनों शहर के अंदर अपराधिक गतिविधियों को रोकने और सड़क दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाने की दृष्टि से नित नये प्रयोग कर रहे हैं । हाल ही में उन्होंने बैंक की सुरक्षा और पार्किंग की व्यवस्था सुदृढ़ करने के उद्देश्य से विभिन्न बैंकों का औचक निरीक्षण किया था और आज शुक्रवार को थाना प्रभारी दीपक पासवान ने पुलिस टीम के साथ शहर के विभिन्न हिस्सों में सघन जांच अभियान चलाया। स्कूल समय में चलाए गए इस अभियान का उद्देश्य यही था की नाबालिक बच्चे दुपहिया वाहन का परिचालन ना करें स्कूल समय पर उन्होंने शहर के विभिन्न हिस्सों में पुलिस बल के माध्यम से ऐसे दुपहिया वाहनों की जांच की जिसे नाबालिक बच्चे ड्राइव कर रहे थे ऐसे बच्चों की पहचान कर उन्हें रोक कर पहले तो समझाइश दी गई और फिर उनके अभिभावकों को बुलाकर दुपहिया वाहन चलाने के लिए न देने के स्पष्ट निर्देश दिए । किसी भी स्थिति में वे अपने बच्चे को दुपहिया वाहन तब तक न दें जब तक की वे पूरी तरह से 18 वर्ष के ना हो जाए और उनके ड्राइविंग लाइसेंस ना बन जाए । पुलिस के इस अभियान की पूरे शहर में भूरी भूरी प्रशंसा हो रही है।