चपदा अकाल की चपेट में……..300 से भी अधिक किसान प्रभावित, 900 हेक्टयर भूमि पर लगी धान की फसल चौपट……

प्रवेश गोयल
सूरजपुरजिले के ओड़गी विकासखण्ड का ग्राम पंचायत चपदा अकाल की चपेट में आ गया है, यहा वर्षा न होने से लगभग 300 किसानों की 900 हेक्टयर भूमि में धान की फसल पूरी तरह से चौपट हो गयी है।
इस संबंध में क्षेत्र के जनपद सदस्य राजेश तिवारी ने बताया कि ग्राम पंचायत चपदा, रामपुर, कुदरगढ़ समेत आसपास के अन्य ग्रामों में गत वर्ष भी अकाल पड़ा था, इस वर्ष तो धान की फसल जैसे ही फूटने को हुई वैसे ही सूखा पड़ गया, खेत पूरी तरह से सुख गये और खेतों में दरार पड़ने के साथ- साथ धान की लहलहाती फसल झूलस कर सुखने लगी। चपदा ग्राम में लगभग 300 से भी अधिक किसानों की फसल अकाल की स्थिति निर्मित होने के कारण चौपट हो गई और उनके समक्ष रोजी- रोटी के साथ- साथ लिए गये कर्ज को चुकाने को लेकर गंभीर संकट उत्पन्न हो गया है।


कलेक्टर से सहयोग की अपील
जनपद सदस्य राजेष तिवारी ने सुखे और अकाल से प्रभावित किसानों का विस्तृत ब्योरा देते हुए कलेक्टर केसी देवसेनापति का ध्यान इस ओर आकर्षित कराया है और प्रभावित कृषकों को प्राकृति कारणों से हुई क्षति का मूल्यांकन करने और यथा शीघ्र क्षतिपूर्ति राषि प्रदान करने की मांग की है। उन्हांने बताया कि चपदा के सभी किसान कृषि पर ही आश्रित हैं और सामने दीपावली, दषहरा, छठ और एकादषी का त्यौहार है, सबके समक्ष रोजी- रोटी और कर्ज अदायगी की चिंता संकट बनकर खड़ी है। यहां के किसानों को आर्थिक मद्द और कर्ज माफी की जरूरत है।


इन किसानों की फसल हुई पूरी तरह से चौपट
चपदा ग्राम के रामनारायण आत्मज बिगन, राजेन्द्र आत्मज रामईक्वाल, रामऔतार आत्मज रामप्रसाद, रामलखन आत्मज शुद्धू साव, रामरतन अत्मज.., ललन आत्मज रामप्रसाद, जयकरन आत्मज रघुनाथ, शिवलोचनी पति, रामप्रसाद, लक्ष्मण आत्मज सोमार साय, हुलसा आत्मज षिधन, रामदास आत्मज रघुनाथ, सुमित्रा पति मेहीलाल, ओमप्रकाष आत्मज पारसनाथ, किसून आत्मज तनगू, रामदास आत्मज बोधन, विष्वनाथ आत्मज तनगू, रामदुलारी आत्मज दूरदयाल, हिरासाय आत्मज झिरम, भगवान सिंह आत्मज सीताराम, सागर साय आत्मज धनसाय, परमेष्वर आत्मज कल्लू राम, रामधन पण्डो आत्मज विश्वनाथ, भगवत पण्डो आत्मज रामलाल, रामऔतार आत्मज सहोरन, प्रेमकुमार आत्मज रामलाल, सीताराम आत्मज बोधन, रामअधीन आत्मज बहादुर, तारा पति सुरेन्द्र, रामबकस आत्मज सोधन, ओमप्रकाश आत्मज हुलास, सोमारू आत्मज सोधन, देवनारायण आत्मज भगत साय, सुखलाल आत्मज सोधन, जेठुराम आत्मज नवलसाय, जगेश्वर आत्मज कल्लू राम, दुलारचंद आत्मज गोवीराम, मोतीलाल जगदेव, विनोद आत्मज मोती, फूलेष्वरी पति हंसराज, भगवनदास आत्मज बोधन, रामप्यारे आत्मज नवलसाय, जयप्रकाश आत्मज पारसनाथ, जगनारायण आत्मज बंधन, करनसाय आत्मज सहदेव, रामप्रसाद आत्मज रामा, घूरन राम आत्मज जगसाय, महिपाल आत्मज देवनारायण, हरिचरण आत्मज उदराज, महावीर आत्मज जगलाल, बसंत आत्मज देवषरण, जगदीष आत्मज देवशरण, बसंत प्रसाद आत्मज सोभई, जयलाल आत्मज अर्जुन, शेषमन आत्मज नानमोहर, रामरतन आत्मज जयलाल, सरपंच सोनकेल आयाम, बब्लू सिंह आयाम, रामकुमार गुप्ता, हिरामणी गुप्ता उपसरपंच समेत अन्य किसानों की फसल पूरी तरह से बर्बाद हो गई है और इनके समक्ष साल भर रोटी की समस्या उत्पन्न हो गई है।