25 मई 2013 को घटित झीरम घाटी काण्ड में शहीद हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं, जवानों और आमजनों को श्रद्धांजलि …….

अम्बिकापुर- जिला कांग्रेस कमेटी सरगुजा द्वारा 25 मई 2013 को घटित झीरम घाटी काण्ड में शहीद हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं, सुरक्षा बल के जवानों और आमजनों को श्रद्धांजलि अर्पित कर अपनी शोक संवेदनाएं व्यक्त की गई।
झीरम घाटी में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के काफिले पर हुए नक्सली हमले में शहीद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व प्रदेश अध्यक्ष स्व. श्री नंदकुमार पटेल, स्व. श्री महेन्द्र कर्मा, स्व. श्री उदय मुदलियार, स्व. श्री दिनेश पटेल, स्व. श्री योगेन्द्र शर्मा सहित अन्य जनों को श्रद्धांजलि  अर्पित कर अपनी शोक संवेदनाएं व्यक्त की गई।जिला कांग्रेस अध्यक्ष बालकृष्ण पाठक ने श्रद्धांजलि सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि यह घटना कांग्रेस के प्रथम पंक्ति के निष्ठावान कार्यकर्ताओं को मारने की एक साजिश थी या यूं कहें की कांग्रेस को कमजोर करने की साजिश थी। लेकिन यह साजिश किसकी है और किसने ऐसा कराया यह बात जांच में लगी एजेंसियां अब तक स्पष्ट नहीं कर सकीं। घटना दिवस को परिवर्तन यात्रा के साथ यात्रा प्रभारी अम्बिकापुर विधायक टीएस सिंहदेव जी के साथ कार्यक्रम में थे , केवल कुछ मिनट पहले हमने झीरम की घाटी का पार किया था और घटना घटी, किन्तु सबसे बड़ा सवाल यह है कि आज तक सरकारी एजेंसियां ने इसकी जांच में कुछ भी स्पष्ट नहीं किया है। श्री पाठक ने परिवर्तन यात्रा के दौरान घटित घटना की विस्तृत जानकारी कार्यकर्ताओं को दी। समस्त कांग्रेसी नेताओं, जवानों और आमजनों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उन्होंने कहा कि हमने अपने जिन साथियों को खोया है, उनकी क्षति अपूरणीय है, किन्तु उनका बलिदान हम हमेशा याद रखेंगे और उनकी शहादत बेकार नहीं जायेगी, न्याय के लिये हमारा संघर्ष निरंतर जारी रहेगा।
सभापति शफी अहमद ने शहीद कांग्रेसी नेताओं की छायाचित्र पर पुष्पांजलि अर्पित करते हुए कहा कि जिस तरह से पूर्व प्रदेशाध्यक्ष नंद कुमार पटेल ने कार्यकर्ताओं में एक नया जोश भरा था और ऐसा लग रहा था कि इस चुनाव में कांग्रेस की जीत पक्की है, वैसा ही आज भी महसुस होता है कि कब पटेल आ जायेंगे और फिर पार्टी के एक-एक कार्यकर्ताओं से मिल कर पार्टी संबंधित चिंता करेंगे। उन्होंने कहा कि हमने अपने जिन साथियों को खोया है, उनको वापस ला पाना तो संभव नहीं है, किन्तु सरकार को अब कम से कम सबक लेकर नक्सल समस्या पर उचित पहल करते हुए सख्त रूख अख्तियार करना था, किन्तु सरकार शांत बैठी है। एक ओर जांच चल रही है तो दूसरी ओर उसी जगह पर कई नक्सल घटनाएं घट गयी और सरकार का केवल एक ही रटा रटाया बयान आता है कि अगली बार ऐसी चूक नहीं होगी।
कार्यक्रम में प्रदेश प्रवक्ता जे.पी.श्रीवास्तव, मिडिया सेल अध्यक्ष द्वितेन्द्र मिश्रा, उपाध्यक्ष मो. इस्लाम, दुर्गेश गुप्ता, महामंत्री अरूण मिश्रा, अरविन्द सिंह गप्पु, अनिल चन्द्र शुक्ला, इन्द्रजीत सिंह धंजल, अब्दुल अब्बास, सी. अनिल, बलराम यादव, प्रशांत सिंह, प्रमोद चौधरी, विवेक सिंह, जीवन यादव, रवि सिद्धु, राजू दीक्षित, संदीप सिन्हा, चन्द्र प्रकाश सिंह, रौशन कन्नोजिया, मधु दीक्षित, नीता विश्वकर्मा, संध्या रवानी, शेख नसीमा, तृप्तराज सिंह, डी.के. शर्मा, नचिकेत जायसवाल सहित काफी संख्या में कांग्रेसजन उपस्थित थे।