पुलिस के खुलासे पर खड़े हो रहे सवाल .. आक्रोशित लोगों ने पुलिस अधीक्षक को सौपा ज्ञापन..

विक्की तिवारी

सूरजपुर- बड़कापारा के लालसाय की हत्या के मामले में फंसे हेमंत बैगा का मामला तूल पकड़ते जा रहा है। मोहल्ले के लोगों ने आज पुलिस अधीक्षक को एक ज्ञापन देकर हेमंत बैगा को निर्दोष बताते हुए कोतवाली पुलिस की कार्रवाई पर संदेह व्यक्त किया है तथा मामले की फिर से जांच कराने की मांग की है। मोहल्ले के लोगों ने इसे लेकर थाना प्रभारी से भी मुलाकात कर जांच पर सवाल खड़े किए हैं। ज्ञात हो कि पिछले मंगलवार को बड़कापारा के 60 वर्षीय लालसाय चेरवा का शव हेमंत बैगा के घर के पास रक्तरंजित हालत में पाया गया था। पुलिस ने वाहवाही लूटने के लिए आनन-फानन में जांच पूरी कर फाईल बंद कर दिया है और मामले में भाजयुमो के एक कार्यकर्ता हेमंत बैगा को आरोपी बनाया है। पुलिस की स्टोरी में बताया गया है कि हेमंत बैगा ने लालसाय को इसलिए मौत के घाट उतार दिया, चूंकि हेमंत की मां से उसके नाजायज संबंध थे। पुलिस की यह स्टोरी सामने आते ही मोहल्ले के लोगों में आक्रोश फैल गया है और मोहल्ले के किसी को भी पुलिस की यह स्टोरी गले नहीं उतर रही है। शनिवार को इसी मामले को लेकर मोहल्ले के लोगों ने पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुॅचे थे, जहां उन्होंने एक ज्ञापन सौंपकर कहा है कि हेमंत बैगा पूरी तरह निर्दोष है। जिसे पुलिस न जाने किस वजह से फंसा रही है। जबकि वास्तविक जो आरोपी है वह खुलेआम घुम रहा है। लोगों ने मामले में फिर से जांच कराकर निर्दोष को बचाने व दोषी को सजा दिलाने की मांग की है। पुलिस अधीक्षक की अनुपस्थिति में इस आशय की मांग का ज्ञापन निमिषा पाण्डेय को सौंपा गया है। जिसमें कोतवाली पुलिस की कार्यप्रणाली पर गंभीर प्रश्नचिन्ह लगाए गए हैं। पुलिस अधीक्षक के बाद मोहल्ले के लोगों ने थाना प्रभारी से भी मुलाकात कर अपनी भावनाओं से अवगत कराते हुए उनकी कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े किए हैं। मोहल्ले के लोगों का कहना है कि हेमंत की मां से लालसाय का किसी तरह का कोई संबंध नहीं था। पुलिस इस मामले में भी एक सभ्य परिवार को बदनाम करने की कोशिश की है। यहां यह बताना भी लाजिमी होगा कि हत्या के मामले में सूरजपुर पुलिस का रिकार्ड ठीक नहीं है। इसके पहले जितनी भी हत्या के मामले सामने आए हैं। उसमें पुलिस ने जांच के नाम पर केवल खानापूर्ति कर अपनी चमड़ी बचाने की ही कोशिश की है। जिसका परिणाम अदालत से आरोपियों का बाईज्जत बरी हो जाना है। ऐसे में सवाल यह उठता है कि हत्याओं के इन मामलों में जो वास्तविक आरोपी थे वे खुलेआम घुम रहे हैं। ऐसे में उनका हौसला बढ़ा हुआ है। इसे लेकर भी यहां आए दिन चर्चाओं का विषय बना रहता है। लेकिन पुलिस है कि उसकी सेहत पर इसका कोई असर नहीं पड़ता। ज्ञापन सौंपने के दौरान नपा अध्यक्ष थलेश्वर साहू, एल्डरमैन आनंद सोनी, संतोष सोनी, कृष्णा देवी, मानकुंवर सहित बड़ी संख्या में मोहल्ले के लोग शामिल थे।