चिटफंड कंपनी मे SECLकर्मी ने लगाई जीवन भर की जमा पुजी…पैसे के अभाव में खुद का नहीं करा पाया ईलाज.. आखिरकार कालरीकर्मी की हुई मौत.. ना बेटी के हाथ पीले कर पाया ना ही बेटो को रोजगार…

राजेश सोनी

सूरजपुर-चिटफंड कंपनी के मायाजाल मे फसकर अपने जीवन भर की कमाई जमा पुजी निवेश कर एक एक पैसे के लिये दर-दर की ठोकर खाने वाले रिटार्यड एसईसीएल कर्मी मंगल साय की हुई मौत! मौत से पहले वह दो महीने से था बीमार, परिजन पैसे के अभाव मे नही करा सके मृतक मंगल साय का ईलाज, आखिरकार चिटफंड कंपनी ने मंगल साय के परिवार को तहस नहस कर दिया! दरअसल जयनगर के दर्रीपारा निवासी मंगल साय 65 वर्ष जो कि एसईसीएल के रेहर खदान में था पदस्थ, 2014 में रिटायर्ड होने के बाद कालरी से मिलने वाली राशि जैसे पीएफ, ग्रेजुएटी फंड, सीएम, पीएफ की राशि लगभग 33 लाख रूपयें मिले थे। जिसे मनेद्रगढ कोरिया जिले मे संचालित पीआईसीएल मल्टी क्रेडिट कापरेटिव सोसायटी लिमिटेड़ के एजेन्ट रामप्रसाद राजवाडे़ ग्राम कुंजनगर, कार्तिक निषाद सहायक डायरेक्टर, मो0 इलियास खान डायरेक्टर, परमेश्वर राजवाडे ग्राम बसदेई के द्वारा चिटफंड का मायाजाल दिखाकर रुपये दोगुना तिगुना करने का झांसा देकर रिटायर्ड के बाद मिला पूरा राशि लगभग 30 लाख 50 हजार रूप्यें को पेशंन प्लान, एफडी जमा करवा लिया गया। इसके बाद मंगल साय का अमंगल के दिन शुरु हो गये,बेटी के हाथ पीले करने के लिये जब उसे पैसे की आवश्कता पडी तो कंपनी के एजेन्ट रामप्रसाद राजवाडे़, कार्तिक निषाद सहायक डायरेक्टर, मो0 इलियास खान डायरेक्टर, परमेश्वर राजवाडे ने टालमटोल करते हुये उसके खुद के जमा पैसे देने से मना कर दिया। उसकी बदनसीबी ऐसी थी कि वह अपनी पुत्री का विवाह नही कर पाया जिससे उसे गहरा सदमा लगा और बीमार पड गया!यहा तक की उसके खुद के ईलाज के लिए प्रयाप्त पैेसे की व्यवस्था नही रहने के कारण गत 03 जनवरी 2019 को दुनिया को छोडकर अलविदा हो गया!

जीते जी मंगल साय ने अपनी जीवन भर की कमाई की जमा पूजीं पीआईसीएल मल्टी क्रेडिट कापरेटिव सोसायटी लिमिटेड़ से प्राप्त करने के लिये कोरिया जिले के मनेंद्रगढ स्थित आफिस के चक्कर काटते रहे!तो वही मंगल साय अपने खुद के जीवन भर की कमाई जमा पुजी चिटफंड कंपनी से पाने के लिये मुख्यमंत्री से लेकर कलेक्टर, सरगुजा पुलिस महानिरीक्षक व सूरजपुर एसपी सहित जयनगर थाना से गुहार लगाई पर उसे आखिरकार निराशा ही हाथ लगी अगर सक्षम अधिकारीयों के द्वारा समय रहते ठोस कार्यवाही हुई होती तो आज वह जीवित रहता! अब परिवार के मुखिया मंगल साय के मौत के बाद उसकी घर की आर्थिक स्थिति दिन प्रतिदिन खराब होती जा रही है क्योकि उसके परिवार मे कमाने वाला कोई नही है ना वह अपनी बेटी के हाथ पीले कर पाया ना ही अपने बेटो को रोजगार के लिये खडा कर पाया! बरहाल मृतक मंगल साय की पुत्री ने कलेक्टर व पुलिस अधिक्षक को लिखित आवेदन देकर पिताजी के मृत्यु पश्चात उनके द्वारा पीआईसीए मल्टी क्रेडिट कापरेटिव सोसायटी लिमिटेड़, ब्राचं मनेन्द्रगढ जिला-कोरिया में जमा राशि को दिलाने की फरियाद की है साथ ही पीआईसीएल मल्टी क्रेडिट कापरेटिव सोसायटी लिमिटेड़ कंपनी के खिलाफ कार्रवाही करने की मांग की है ताकि भविष्य में दुसरा कोई भोला-भाला व्यक्ति इन चिटफंड कंपनी के जाल में ना फसें।

आज भी बेखोफ संचालित चिटफंड कंपनिया सूरजपुर जिले में ….

करोडो रुपयो का वारान्यारा करने के बाद पीआईसीएल मल्टी क्रेडिट कापरेटिव सोसायटी लिमिटेड़ के डायरेक्टर कार्तिक निषाद,एजेन्ट रामप्रसाद राजवाडे़ कुंजनगर,परमेश्वर राजवाडे बसदेई सक्रिय होकर भोले भाले ग्रामीणो को चुना लगा रहे है इनके द्वारा जिला व पुलिस प्रशासन के नाक के नीचे नये-नये कंपनी का आफिस मुख्यालय मे खोलकर ग्रामीणो को लुट रहे है अगर इनके खिलाफ पुलिस मे शिकायत भी होती है तो ले देकर निकल जाते है जिससे इनके हौसले बुलंद है जिससे ये चिटफंडी ग्रामीणो को चिटफंड का मायाजाल सब्जबाग दिखाकर रकम दोगुना-तिगुना करने का झांसा दिखाकर करोडो रुपयो का वारा-न्यारा कर रहे है! आखिर कब तक मंगल साय जैसे लोग इनके जाल मे फसकर बर्बाद होते रहगे,कितने मंगल साय मरते रहेगे, कब इनके उपर कठोर कार्यवाही होगी और कौन करेगा, फिलहाल कहना मुश्किल है!क्योकि इन्हें प्रशासन से खुली छुट मिली हुई है! बरहाल चिटफंड कंपनी से पिडित ग्रामीणो का सब्र का बांध टुट गया है क्योकि जिला प्रशासन सहित पुलिस के द्वारा उचित कार्यवाही नही होने पर ग्रामीण अपने आपा खो रहे है किसी भी दिन आने वाले समय में अप्रिय घटना होने की संभावना बनी हुई है!