शिक्षा मंत्री प्रेमसाय प्रतापपुर उर्सुलाइन मार्शल आर्ट स्कूल में बच्चो के एवम केरता पुलिसिंग मित्र सम्मान समारोह में हुए शामिल

प्रतापपुर से सचिन तायल्।मार्शल आर्ट नक्सली क्षेत्रों में भी उतना ही कारगर है जितना शहरी क्षेत्रों में,आत्म रक्षा के लिए यह कला सभी के लिए आवश्यक है,उक्त बातें स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह ने उर्सुलाइन स्कूल में मार्शल आर्ट के बच्चों के लिए आयोजित सम्मान समारोह कार्यक्रम में कहीं।इस दौरान संस्था के कर्मचारियों और बच्चों ने स्कूल शिक्षा मंत्री का जोरदार स्वागत किया,यहां आयोजित कार्यक्रम से पहले प्रेमसाय ने स्व.कन्हैया राम पांडे के घर जाकर उन्हें श्रधांजलि दी जिनका कुछ दिन पूर्व निधन हो गया था।  उर्सुलाइन में कार्यक्रम की शुरुवात मंत्री डॉ. प्रेमसाय के स्वागत से हुई तथा उनके साथ अन्य अतिथियों को पुष्पगुच्छ भेंट किया गया तथा बच्चों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ मार्शल आर्ट की प्रस्तुति दी।इस दौरान प्रतापपुर, नारायणपुर,बीजापुर,दंतेवाड़ा,बलरामपुर, सरगुजा,जशपुर,कोरिया,बस्तर और सूरजपुर जिले के राज्य,राष्ट्रीय,अंतरराष्ट्रीय स्तर के स्कूल स्तर व योगा स्पोर्स्ट्स मिक्स मार्शल आर्ट्स मलखम्भ संघ के खिलाड़ियों का सम्मान किया गया जिसमें नमिता किस्पोट्टा, लक्ष्मी खटांगिया,जीवनलता सिंह,सरिता सिंह,संजना सिंह,उर्मिला सिंह,रविता सिंह,मनीषा सांडिल्य,रोशनी कुजूर,दीपिका सारथी,फूलमती बेक,माधुरी खेस,रमेश आयाम,बलराम ठाकुर,लालकुमार रजक,बीरबल, विवेक कुजूर,रविन्द्र कुजूर,तन्मय तिर्की,विदेश कुजूर,सूर्यवंशी,श्रवण, मोतीराम,आशाराम,संकु राम,अजित बड़ा,कमलेश्वर सिंह,वनीत टोप्पो सहित अन्य शामिल हैं।कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉ. प्रेमसाय सिंह ने उन्हें ट्रॉफी व प्रमाण पत्र वितरित किये,कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि प्रतिभावान खिलाड़ियों का उत्साहवर्धन करते हुए उर्सुलाइन विद्यालय के प्रबन्धन का अग्रणीय व पिछड़े क्षेत्रों में सेवा कार्य सराहनीय है,उनकी इस सेवा भावना को देखते हुए उन्होंने संस्था को हर सम्भव सहयोग करने का आश्वासन दिया।उन्होंने कहा कि मार्शल आर्ट एक महत्वपूर्ण कला है जो मनुष्य को आत्मरक्षा करना सिखाती है और ताकत प्रदान करती है,यह कला जितनी शहरी क्षेत्रों में कारगर है उतनी है ग्रामीण क्षेत्रों में भी आवश्यक है क्योंकि यह कला नक्सली क्षेत्रों में उनसे लड़ने के लिए भी अच्छी कला है।सुरक्षा के साथ यह कला शरीर को चुस्त दुरुस्त रखने में भी महत्वपूर्ण है और यह प्रत्येक व्यक्ति को सीखनी चाहिए।उन्होंने बच्चों से कहा कि वे पढ़ाई पर पूरा ध्यान दें सरकार इसके लिए उन्हें हरसंभव सहयोग करेगी,बच्चे जिस क्षेत्र में भी जाएं पूरी ईमानदारी के साथ प्रयास करें ताकि वे आगे बढ़े।प्रेमसाय ने संस्था के सरगुजा सम्भाग के डायरेक्टर चंदन टोप्पो की सराहना करते हुए कहा कि वे स्पेशल टास्क फोर्स में रहते हुए भी ग्रामीण बच्चों को जागरूक करने का काम कर रहे हैं,चंदन से उन्होंने ज्यादा से ज्यादा बच्चों को इससे जोड़ने प्रेरित किया।किसान मोर्चा के विद्या सागर सिंह ने संस्था के प्रयासों की सराहना करते हुए इस काम को आगे बढ़ाने प्रेरित किया।कार्यक्रम का संचालन चंदन टोप्पो ने व आभार अनिल दिवेदी महासचिव छग ताईक्वांडो संघ ने किया। कार्यक्रम के अंत में मंत्री प्रेमसाय ने स्कूल के लिए हैण्डपम्प और सायकल स्टैंड की घोषणा की।इस दौरान अनिल गुप्ता, नवीन जायसवाल,जितेंद दुबे,नरेंद्र गर्ग,सतीश चौबे,जगतलाल आयाम,बीजू दासन,बलबीर यादव,नईमुद्दीन खान,मासूम इराकी,प्रियंकल तिवारी,अवधेश सिंह सहित संस्था के कामिल टोप्पो,बनीत कुमार टोप्पो,बलराम ठाकुर,कमलेश्वर सिंह,सूर्यवंशी,मोतीराम वेको,आई.लकड़ा,अमित आयाम,सिस्टर अग्नेश किस्पोट्टा,सिस्टर पुष्पा एक्का,फादर जेम्स मिंज,फादर रंजीत बेक,विजेंदर तिग्गा,अजित बड़ा,सुल्तान टोप्पो सहित अन्य लोग उपस्थित थे।इससे पूर्व डॉ. प्रेमसाय सिंह नगर के कदमपारा निवासी व रेंजर वीरेंद्र पांडे के घर गए जहाँ उन्होंने स्व.कन्हैया पांडे को श्रद्धांजलि दी जिनका कुछ दिन पूर्व निधन हो गया था।

केरता में कार्यक्रम सामुदायिक पुलिसिंग के तहत सम्मान कार्यक्रम
शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह आज हाइस्कूल पंछीडाँड़ में सामुदायिक पुलिसिंग के तहत आयोजित सम्मान कार्यक्रम में शामिल हुए जहां उन्होंने विभिन्न खेल प्रतियोगिताओं में विजेता उपविजेता टीम व खिलाड़ियों को ट्रॉफी व प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया।इस दौरान उन्होंने कहा कि बच्चों को केवल किताबी ज्ञान नहीं वरन सामान्य ज्ञान की जानकारी भी होने चाहिए,खेलों में बच्चों की प्रतिभा को निखरना चाहिए और पुलिस के इस तरह जे कार्यक्रम सराहनीय है।पुलिस को सिर्फ परेशान करने वाला कहा जाता है लेकिन इस तरह जे काआयोजन बताते हैं कि इनका व्यवहार दोस्ताना है।पुलिस को चाहिए कि वे अच्छे लोगों के मित्र बनकर रह हैं और एक डर भी बनाकर रखे ताकि अपराधी प्रवृति के लोगों में डर हो और अपराधों पर नियंत्रण हो।शिक्षा के क्षेत्र में वर्तमान परिवेश प्रतियोगी परीक्षाओं का है और इनमें क्यूज पार्टियोगताएँ कारगर साबित होती हैं जो आज कार्यक्रम में पुलिस और केरता के स्कूल ने आयोजित किया।बच्चों से उन्होंने कहा कि वे पढ़ाई पर ध्यान दें,व्यवस्था देना मेरी और सरकार की जिम्मेदारी है,आप लोग ही कल।का भविष्य हैं पढलिखकर आगे बढ़े,परिवार और गांव स्कूल का नाम रोशन करें,आपको जो अवसर मिला उसका फायदा उठाएं।किसान मोर्चा के विद्या सागर सिंह ने उद्बोधन के दौरान केरता में महाविद्यलय खोलने के साथ अन्य मांगें रखीं जिस पर प्रेमसाय ने छात्रावास भवन व बाउंड्रीवाल निर्माण की घोषणा की।एसडीओपी राकेश पाटनावर,प्रभारी खड़गवांकला सरफराज फिरदौसी ने मंत्री डॉ. प्रेमसाय,विद्यासागर सिंह व ब्लॉक अध्यक्ष कुमार सिंह देव को स्मृति चिन्ह भेंट किया।