प्रतापपुर अधिवक्ता संघ ने 26 जनवरी को नए बन रहे जिले में प्रतापपुर का हो शामिल नाम राज्यपाल से की माँग

प्रतापपुर से सचिन तायल प्रतापपुर छत्तीसगढ़ में 36 जिले कांग्रेस की घोषणा पत्र में नवनियुक्त सरकार बनाने के बाद प्रतापपुर को राजस्व जिला बनाने की मांग अधिवक्ता संघ ने v राज्यपाल से की है कांग्रेस सरकार के द्वारा कुछ जिलों का ऐलान होना है जिसको देखते हुए पूर्व में भी सरकार से लोगों द्वारा कई बार राजस्व जिला प्रतापपुर वाड्रफनगर को मिलाकर बनाने की मांग की गई थी पर कांग्रेस सरकार ने पूर्व में भी घोषणा पत्र में प्रतापपुर को राजस्व जिला बनाने की घोषणा की थी पर सरकार बन जाने के बाद अभी कुछ दिन पूर्व पंच सरपंच सम्मेलन में आए स्वास्थ्य मंत्री एवं स्थानीय शिक्षा मंत्री से लोगों ने जिला की मांग की थी जिस पर स्वास्थ्य मंत्री श्री टी एस सिंह देव ने लोगों को कहा था कि अगर अब हम कोई भी नए जिले बनाएंगे तो प्रतापपुर को भी जिला बनाया जायेगा जिससे लोगो को उम्मीद है कि प्रतापपुर जल्द जिले के रूप में होगा
रियासत कालीन से राजधानी रही है प्रतापपुर-
प्रतापपुर वर्तमान ही नहीं यहां अपना इतिहास रहा है यह राजा महाराजाओं के समय की राजधानी रही है राजपरिवार के द्वारा बनाए गए कई तलाब महल जो खंडहर में तब्दील हो गए हैं उसके कुछ अवशेष आज भी लोगों को देखने के लिए मिलते हैं
प्रतापपुर अपार खनिज संपदा के अलावा बड़े-बड़े कारखाने स्थापित हैं
प्रतापपुर में खनिज संपदा अपार है जिसे काला हीरा भी कहा जाता है शक्कर कारखाना भी प्रतापपुर के ग्राम केरता में स्थापित है प्रतापपुर में पहले से जेल की स्वीकृति हो चुकी है जनसंख्या के दृष्टिकोण से भी प्रतापपुर पूर्व में बने जिलों से जनसंख्या अधिक है हर वर्ग के हिसाब से कुल 238 राजस्व ग्राम एवं 75 पटवारी हल्का है 146 ग्राम पंचायत 2 जनपद 3 नगर पंचायत के अलावा बहुत कुछ है इस दृष्टिकोण से प्रतापपुर वाड्रफनगर जिले की मांग के अनुरूप है
प्रतापपुर वाड्रफनगर जिला बनने के बाद ही समस्याओं का हो सकेगा निदान सूरजपुर को प्रतापपुर में जोड़ देने से लोगों को विपरीत दिशा में जाना पड़ता है जिससे लोगों को कभी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है कुछ ऑफिस अंबिकापुर में तो कुछ सूरजपुर में है व्यापारिक दृष्टिकोण से भी अंबिकापुर में ही काम होता है वही हाल वाड्रफनगर का है वाड्रफनगर का जिला बलरामपुर रामानुजगंज पड़ता है जो कि विपरीत पड़ता है व्यापारी दृष्टिकोण से भी बलरामपुर में कुछ नहीं है जिससे लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है अगर प्रतापपुर को जिला बनाया जाता है तो सब समस्या का समाधान हो जाएगा यहां की सबसे बड़ी समस्या है

प्रतापपुर व्यापारी संघ के अध्यक्ष अनिल मित्तल-
का कहना है की हर वर्ग एवं व्यापारी दृष्टिकोण से प्रतापपुर जिला बनाना न्याय हित में उचित होगा लोगों को जो असुविधा हो रही है जिला बनने के बाद पूरा हो सकेगा जिससे व्यवसाय भी काफी आगे बढ़ेगा

अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार एसोसिएशन के ब्लॉक अध्यक्ष संजय प्रधान – मेरे द्वारा कई बार पूर्व की सरकार को लेटर लिखकर प्रतापपुर को जिला बनाने की मांग की गई थी पर अब यह देखना है कांग्रेस सरकार द्वारा कितना जल्दी प्रतापपुर को जिला बनाकर हमारी मांगों को पूरा करती है

वरिष्ठ अधिवक्ता एवं वरिष्ठ भाजपा नेता-सुनील गुप्ता*
ने कहा सरकार सरकार की घोषणा पत्र में में कांग्रेस सरकार द्वारा प्रतापपुर को जिला बनाने की घोषणा सरकार बनने पर की थी 26 जनवरी को कुछ जिले की घोषणा होनी है इसमें प्रतापपुर का भी नाम हो सरकार ने जो वादा किया है उसे पूरा करें छत्तीसगढ़ में 36 जिले तो बनने हैं पर एक नाम प्रतापपुर का भी हो 26 जनवरी को

वरिष्ठ अधिवक्ता एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जितेंद्र दुबे

हम लोगों का तो प्रतापपुर जिला सपना है पूर्व में भी हम लोगों के द्वारा कई बार प्रयास किया गया था पर हम लोगों का शासन नहीं था अब समय आ गया है डॉक्टर प्रेमसाय हमेशा प्रतापपुर क्षेत्र के लिए काम करते हैं और करते रहेंगे अधिवक्ता संघ के द्वारा स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव एवं स्थानीय विधायक एवं शिक्षा मंत्री प्रेमसाय जी से आयोजित पंच सरपंच सम्मेलन में मांग की है हमें भरोसा है महाराज साहब चर्चा कर हमें जल्द सौगात देंगे जिले के रूप में