बिहारपुर से महुली 15 किमी सड़क की दयनीय स्थिति हो गई है सड़क में दो से तीन फीट तक के बड़े-बड़े गड्‌ढे हो गए हैं।चलना हुवा दूभर …..

पप्पू जायसवाल

बिहारपुर ।बिहारपुर से महुली 15 किमी सड़क की दयनीय स्थिति हो गई है। सड़क में दो से तीन फीट तक के बड़े-बड़े गड्‌ढे हो गए हैं, जिसमें चलना खतरनाक साबित हो रहा है। पीएमजीएसवाई के तहत बनी सड़क की खस्ता हालत से ग्रामीणों सहित छात्रों को काफी परेशानी हो रही है। सूरजपुर जिले के दूरस्थ क्षेत्र चांदनी-बिहारपुर से महुली तक जाने के लिए यह ही एकमात्र सड़क है। माहभर पूर्व चांदनी बिहारपुर इलाके में मलेरिया पीड़ितों को देखने जनप्रतिनिधियों के साथ ही कई अधिकारी इस मार्ग से यहां पहुंचे थे। इसके बाद भी अब तक सड़क की दुर्दशा को बदलने कोई पहल होती नजर नहीं आ रही है। ग्रामीण अब सड़क की दुर्दशा को लेकर आंदोलन करने की तैयारी कर रहे हैं। ग्रामीणों ने 15 दिनों के भीतर सुधार काम शुरू नहीं होने पर प्रशासन को आंदोलन करने की चेतावनी दी है।

बिहारपुर से महुली तक कि सड़क खस्ताहाल 5 साल में बन पाई थी सड़क कई गांव के लोग प्रभावित ।

खस्ताहाल हो चुकी इस सड़क से दर्जनों गांव के लोग जिला व ब्लाक मुख्यालय रोजाना आना-जाना करते हैं। अवंतिकापुर, कोल्हुआ, महुली, खोहिर, बैजनपाट, लूल, भुंडा, पारसा, पठारी, रसौकी, उमझर, रामगढ़, जुड़वानी, चोंगा, कछवारी, तेलीपाठ सहित अन्य गांव के लोगों इसी मार्ग से जाते हैं। बड़े-बड़े गड्‌ढे होने से ये लोग कई बार दुर्घटना का शिकार भी हो चुके हैं।

पीएमजीएसवाई के तहत बिहारपुर से महुली तक 15 किमी सड़क का निर्माण 2008 में शुरू हुआ था, जो 2013 में बन पाया था। सड़क निर्माण में पांच साल तो लग गए, लेकिन सड़क इतने वर्षों तक नहीं टिक पाई। सड़क बनने के बाद से ही उखड़ने लगी थी। आज स्थिति यह है कि 2 से 3 फीट तक के गड्‌ढों के बीच से लोगों को गुजरना पड़ता है। साथ ही अब इस मार्ग पर पड़ने वाले कई पुल-पुलिए भी क्षतिग्रस्त हो चुके हैं। इसके बाद भी जनप्रतिनिधि व अधिकारी इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं।