आखिरकार…चिरनिद्रा से जागा प्रसाशन …मौजुदा विधान सभा स़त्र में सवाल गूंजते ही गृह विभाग हुआ सक्रिय और पुलिस हिरासत में मौत के मामलों में हुई एफआईआर…

राजेश सोनी
सूरजपुर-सूरजपुर सहित सरगुजा जिले में पुलिस कस्टडी में हुई मौत के मामले मे विधान सभा में सवाल गूंजते ही आनन-फानन में गृह विभाग सक्रिय हुआ और पुलिस हिरासत में मौत के मामलों में एफआईआर कर दिया गया।
दोनों मामले सरगुजा रेंज के हैं, जिनमें से एक सूरजपुर जिले के पुलिस थाना चंदौरा का है, पति पत्नी विवाद के बाद थाना लाए गए पति ने हवालात में फाँसी लगाकर खुदकुशी कर ली। चंदौरा थाना में मृतक कृष्णा सारथी की पत्नी ने मारपीट की शिकायत की थी, मृतक को सुबह करीब सात बजे थाना लाया गया था, और फिर लाकप में डाल दिया गया। मृतक कृष्णा सारथी की शव लाकप के गेट के जरिए फाँसी लगी हालत में पाया गया था। तत्कालीन एसपी ने पूरे प्रकरण में प्रथम दृष्ट्या गंभीर लापरवाही पाई और थाना प्रभारी सहित 9पुलिसकर्मियों को निलंबित कर कार्यवाही का इतिश्री कर दिया था। मौजुदा विधानसभा सत्र मे सवाल लगाते ही गृह विभाग के निर्देश पर एक एएसआई समेत चार पर धारा 342 के तहत अपराध दर्ज किया गया है।

चंदोरा पुलिस थाने की

दूसरा मामला सरगुजा जिले के कोतवाली थाना अंबिकापुर का है, जहां पुलिस हिरासत से भागे चोरी के आरोपी का शव फाँसी लगे हालत में एक नीजि अस्पताल के परिसर में मिला था। प्रकरण की न्यायिक जाँच में पुलिस के खिलाफ कोई टिप्पणी नहीं की गई थी, लेकिन इस मामले में भी मौजुदा विधानसभा सत्र मे सवाल लगाते ही गृह विभाग के निर्देश पर रातों रात एफआईआर दर्ज की गई है। कोतवाली के इस मामले में टीआई समेत पाँच के विरुद्ध धारा 306 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर किया गया है।

सरगुजा जिले के कोतवाली थाना की घटना

पीड़ित पक्ष रानू बेक बताया कि न्याय अधूरा है। इसी से स्पष्ट है कि न्यायिक जांच में मर्डर ऑफ मिस्ट्री की संज्ञा दी गई थी, रानू बेक ने स्पष्ट तौर पर कहा कि मामले में अभी भी लीपापोती की जा रही है अपराधिक पुलिसकर्मियों को बचाने पूरी कोशिश की जा रही है उन्होंने मामले की नए सिरे से निष्पक्ष जांच करने की गुहार लगा सीबीआई जांच कराने मांग की है।

पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन की-पूर्व की तस्वीर

गौरतलब है कि पिछले दिनो दोनो जिलो के पुलिस की कार्यप्रणाली किसी से छुपी नहीं रही, जाहिर है आम लोगो का विरोध, अगर सूरजपुर जिले की बात करे तो पिछले दिनो पुलिसिया कार्यवाही का विरोध नगर के लोगो ने नगर मे रैली निकालकर, पोस्टर बैनर के साथ किया था।