पुलिस ने सुलझाई NH 43 कमलपुर के पास हुए अंधे कत्ल की गुत्थी… अवैध संबंध बना वारदात की वजह…हत्या को एक्सीडेंट का स्परूप देने आरोपियों ने रची थी साजिश…मृतक की पत्नी सहित तीन आरोपी गिरफ्तार…

राजेश सोनी

सूरजपुर:-सूरजपुर पुलिस ने सुलझाई एनएच 43 कमलपुर के पास हुए अंधे कत्ल की गुत्थी,अवैध संबंध रही वारदात की वजह हत्या को एक्सीडेंट का स्परूप देने आरोपियों ने रची थी साजिश,पुलिस ने एक महिला सहित तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है|यह पूरा मामला  NH हाइवे किनारे कमलपुर का है जहा पर  03 दिसम्बर एनएच 43 के खेत किनारे एक आटो में खून से सना शव पाए जाने की सूचना पर कोतवाली पुलिस तत्काल मौके पर पहुंचकर घटना स्थल का बारीकी से निरीक्षण किया तो उसके स्टेरिंग सीट में अज्ञात व्यक्ति उम्र करीब 35 वर्ष का दबा मरा पड़ा है जिसके माथे में चोट का निशान दिख रहा है और खून बहा है एवं टेम्पो का शीशा टूटा हुआ था|घटना की सूचना मिलते ही पुलिस अधीक्षक सूरजपुर राजेश कुकरेजा, एएसपी हरीश राठौर, सीएसपी जे.पी.भारतेन्दु, एफएसएल वरिष्ठ वैज्ञानिक अधिकारी कुलदीप कुजूर, फिंगर प्रिन्ट विशेषज्ञ डीएसपी लिनोश किस्पोट्टा एवं ट्रेकर डाग स्क्वार्ड की टीम मौके पर पहुंचकर घटना स्थल का बारीकी से निरीक्षण किया। पुलिस के द्वारा शव पंचनामा कार्यवाही के दौरान मृतक के जेब से ड्राईविंग लायसेंस एवं घटना स्थल से एक विजिटिंग कार्ड मिला। ड्राईविंग लायसेंस की फोटो से मृतक की पहचान हुई कि वह सुभाषनगर चरचा, जिला कोरिया निवासी 31 वर्षीय तनवीर अहमद अंसारी पिता दाउद अंसारी है। मृतक के शव पंचनामा की कार्यवाही के बाद शव को पीएम हेतु जिला चिकित्सालय भेजते हुये मर्ग कायम कर जांच में लिया।
 घटना स्थल निरीक्षण, जांच पंचनामा कार्यवाही एवं डाॅक्टर के द्वारा दिए गए शार्ट पीएम रिपोर्ट में मृतक की मृत्यु हत्यात्मक होना लेख किए जाने पर कोतवाली पुलिस ने अज्ञात व्यक्ति के विरूद्व अपराध क्रमांक 469/19 धारा 302, 201 भादवि के तहत् मामला पंजीबद्व करते हुए विवेचना की गई। घटना स्थल पर पाए गए परिस्थितिजन्य साक्ष्य एवं मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक सूरजपुर राजेश कुकरेजा ने कोतवाली प्रभारी धर्मानंद शुक्ला को मामले से जुड़े सभी बिन्दुओं पर बारीकी से जांच कर जल्द मामले का खुलासा करते हुए आरोपी को गिरफ्तार करने के निर्देश दिए। कोतवाली पुलिस मौके से पाए गए विजिटिंग कार्ड के आधार पर जिला कोरिया के चरचा पहुंची और सूफिया एण्ड हायात के संचालक महफूज आलम से घटना के संबंध में पूछताछ किये जाने पर यह तथ्य आया कि इसका रिश्ते का भांजा अमानत खान गढ़वा झारखण्ड से पकड़े का एक लगेज लेकर बस से सूरजपुर के लिए निकला है जो रात 10 बजे सूरजपुर बस स्टैण्ड पहुंचेगा उसी सामान को लेने के लिए मृतक तनवीर अहमद दिनांक 02/12/19 के शाम 6.00 बजे इससे 5 सौ रूपये लेकर सूरजपुर के लिए निकला था। मृतक तनवीर के पत्नी द्वारा महफूज आलत पर लगातार दबाव बनाती थी कि उसके पति तनवीर से छुटकारा दिलाए और उसे अपने साथ रखे। महफूज एवं मृतक की पत्नी अफसाना बानो अपने संबंधों को बनाए रखने के लिए मृतक को रास्ते से हटाने की योजना 1 माह पूर्व से बना रखे थे। बनाए गए योजना के अनुसार 2 दिसम्बर के रात्रि करीब 10-11 बजे के मध्य एनएच 43 ग्राम कमलपुर जो जिला सूरजपुर व कोरिया का बार्डर है वहां मृतक तनवीर को रोककर महफूज आलम एवं उसका मुहबोला भांजा अमानत खान के द्वारा अपने साथ लाए हुए हथौठे से तनवीर को चेहरे एवं सीने पर प्राणघातक हमला किए जिससे तनवीर की मौके पर ही मृत्यु हो गई। इसके बाद दोनों ने टेम्पो के ड्राईवर सीट पर शव को डालकर हत्या की वारदात को एक्सीडेंट का स्वरूप देने के लिए सड़क के किनारे पलटा दिए। महफूज आलम के द्वारा टेम्पो के इंडीकेटर शीशा को पत्थर से मारकर फोड़ दिया गया।

आरोपियों के साथ पुलिस

पुलिस ने आरोपी महफूज आलम के निशानदेही पर एक लोहे का हथौड़ा, मृतक के पत्नी का मोबाईल जप्त किया साथ ही वारदात के वक्त दोनों आरोपियों के द्वारा पहने हुए पकड़े जिसमें खून के निशान लगे थे उसे जप्त किया है। जांच में इस बात की भी पुष्टि हुई कि आरोपी महफूज के द्वारा वारदात में प्रयुक्त हथौड़ा को बैकुण्ठपुर से खरीदा था। मामले के दोनों आरोपियों ने घटना स्थल पर हत्या को एक्सीडेंट का स्वरूप देने के लिए एनएच 43 पर मृतक के टेम्पो के ड्राईवर सीट में उसे डालकर सामने की ओर से आ रही वाहनों के सामने धकेला किन्तु सामने से आ रही वाहने साईड लेकर निकल जाती थी। पुलिस ने प्रकरण में आरोपी महफूज आलम पिता मुस्तकीम अंसारी उम्र 36 वर्ष निवासी सुभाषनगर, थाना चरचा, जिला कोरिया, अमानत खान पिता मोहम्मद आजाद खान उम्र 28 वर्ष सा0 उचरी, थाना गढ़वा, जिला गढ़वा झारखण्ड एवं अफसाना बानो पति स्व. तनवीर अहमद अंसारी उम्र 26 वर्ष निवासी निवासी सुभाषनगर, थाना चरचा, जिला कोरिया के विरूद्व अपराध सबूत पाए जाने पर विधिवत् गिरफ्तार कर माननीय न्यायालय में पेश किया।
पुलिस की कार्यवाही में थाना प्रभारी सूरजपुर धर्मानंद शुक्ला, एसआई हिम्मत सिंह शेखावत, अजहर उद्दीन, एएसआई गजपति मिर्रे, प्रधान आरक्षक धनेष्वर कुशवाहा, राहुल गुप्ता, सुरेन्द्र सिंह, रामनिवास तिवारी, आरक्षक चन्द्रप्रकाष साहू, बिहारी पाण्डेय, साईबर सेल के आरक्षक युवराज यादव एवं रौशन सिंह सक्रिय रहे।