सरमा ग्राम पंचायत मे निर्विरोध चुनाव करने की साजिस…गिरोह बनाकर अंजाम देने मे लगे लोकतंत्र के ठेकेदार…6 अभ्यर्थीयो को नही खरीदने दिया नांमांकन… जांच उपरांत होगी कार्यवाही…

राजेश सोनी
सूरजपुर-जिले के सरमा गांव मे सरपंच पद का निर्विरोध चुनाव का ठोंग गुमराह कर निर्वाचन सम्पन्न कराया गया जिसकी शिकायत कलेक्टर से गांव के हरी सिह,सुखसाय,समरथ सहित अन्य ग्रामीणो ने किया है। पंचायत चुनाव का महापर्व की गरीमा मान सम्मान भंग करने की तानाबाना का खेल कर निर्विरोध चुनाव की आड मे कर साजिस के साथ निर्विरोध सरपंच का चुनाव सम्पन्न कराये जाने का मामला सामने आया है। जिसमे अपनी डफली अपनी राग के तर्ज पर खुद के नियम बनाये गये।

चुनाव की प्रक्रिया जिस तरीके से निर्वाचन आयोग करवाती है उसी अंदाज मे निर्वाचन ग्राम पंचायत सरमा के सरपंच पद का सर्वसम्मति से स्थानिय ग्रामिणो के द्वारा कराये चुनाव मे देखने को मिला जिसकी शिकायत जिला निर्वाचन अधिकारी से कर संपूर्ण प्रक्रिया को भंग करने की बात कही है। सरमा गावं के हरी सिह,सुखसेन,समरथ सिह,हरि सिह ने बताया कि गांव मे निर्विरोध चुनाव की आड मे उन्हे गुमराह किया गया।

सरपंद पद के कुल 7 अभ्यर्थी रहे जिसमे 6 अभ्यर्थीयो को नांमांकन फार्म नही खरीदने दिये।बडे ही शातिर तरिके से कथाकथित लोकतंत्र के ठेकेदारों ने गुमराह किया गया। महज दिखावे के लिये ग्रामवासी सर्व सहमति से ठोगं कर चुनाव संपन्न कराया गया जिसमे मतदाता भी ग्रामीण है, नोडल अधिकारी भी ग्रामीण है और पीठासीन अधिकारी भी इसी गांव के ग्रामीण हैं साथ ही मतगणना भी ग्रामीणो ने ही किया है। जिसकी विडियो भी बनवाई गई है। बरहाल पिडितो ने जिला निर्वाचन अधिकारी से कार्यवाही करने की मांग की है। तो वही अन्य जगहो से इसी तरह चुनाव लडने वाले ग्रामीण को गुमराह साजिस कर निर्विरोध पंच सरपंच का चुनाव कराने की बाते सामने आ रही है।
जिला निर्वाचन अधिकारी दिपक सोनी ने मामले की वस्तु स्थिति समझने के बाद जिला पंचायत सीईओ को जांच कर विधिसम्मत कार्यवाही करने की बात कही है।