नगर सरकार बदलते ही सूरजपुर की बदलने लगी फिजाये…मेरा सूरजपुर बदल रहा है…बेखौफ होकर महज सौ रुपये मजदुरी मांगने पर सडक पर ही मारपीट कर डाला…


राजेश सोनी

सूरजपुर-सूरजपुर मे नगर सरकार जैसे ही बदली यहा की फिजा भी बदल गई है जिसका लोग अनुमान लगा ही रहे थे कि जल्दी ही परिणाम सामने आ ही गये। शहर मे अपनी मेहनताना मांगना ही गुनाह होता जा रहा है, मांगने पर बीच सडक पर मारपीट कर लहुलुहान कर मोबाईल चोरी का आरोप लगा देने की प्रथा कि शुरुवात हो गई। कोतवाले थाना आज स्थानिय लोगो की से आबाद रहा|वजह रहा मजदुरी के हक के पैसा मागने पर बदले मे मारपीट की घटना से। पिडित इलेक्ट्रोशियन शिवम साहु ने पुलिस को दिये आवेदन मे बताया कि वह गर्ग क्लाथ स्टोर मे वाशिग मशिन बना कर मजदुरी का मेहनताना मांग रहा था कि दिपक गर्ग को सौ रुपये मेहनतान ज्यादा लगने की बात नागवार गुजरी। जिसके बाद अपना शासन अपना सत्ता की दम पर शिवम को मारने पिटने लगा साथ ही उसका भाई संजय सहित दो अन्य लोग भी आ गये और बीच सडक पर मारपीट करने लगे। सडक पर चल रहे खुले आम गुण्डागर्दी देख लोग बीच बचाव कर पिडित को घर भेजा। पिडित पक्ष परिवार सहित थाने पहुचकर अपनी आप बीती बताई तो वही दुसरे गुट के लोग भी थाने पहुचकर अपनी सरकार अपनी सत्ता का घौस देने लगे| साथ ही मारपीट से आहत शिवम पर मोबाईल चोरी करने का आरोप लगा दिया। दोपहर की घटना को शाम हो गई लेकिन आहत का रिपोट लिखने मे जानबुझकर काफी विलंब किया। उससे पहले दौर शुरु हुआ समझौते का लेकिन आहत पक्ष कार्यवाही की बात पर अटल रहे|


सडक पर मात्र सौ रुपये की मेहनताना मागने के बदले खुले आम सडक पर मारपीट की घटना से शहरवासी काफी सकते मे है। नगर में चर्चा व्याप्त है। अगर इसी तरह सरकार के शह पर बेखौफ मारपीट की घटना की पुन:वृति हुई तो अंजांम बेहद खौफनाख होगे। बरहाल सडक पर दबंगो की मारपीट की घटना से लोग सर्तक होकर वक्त के साथ जरुरत के हिसाब से माकुल जवाब देने की बात कह रहे है।