तबादला के बाद भी 4 माह से जमे हुये है उपनिरीक्षक….जिले से इनका मोह-माया छुटने का नाम नही ले पा रहा… IG बोले तबादला आदेश का किया जायेगा परिपालन…

राजेश सोनी

सूरजपुर-सूरजपुर जिला मे पदस्थ पुलिस विभाग के अधिकारी तबादला होने के बावजूद यहा से जाना नहीं चाहते हैं। आखिर ऐसी क्या वजह है कि वे यहा अंगद के पैर की तरह जमे हुये है। गौरतलब है कि सूरजपुर जिले मे अनुकुल कोयला कबाड एसईसीएल के खदान,जंगल पहाड़ के साथ कम साक्षर वाला क्षेत्र है| जिले मे बडे पैमाने मे अवैध काले-कारनामें,जुआ,एसईसीएल खदानो से बहुमुल्य सामाग्री, डिजल चोरी,नशीली दवाईयां,गांजा,आफिम,शराब,लकडी,कबाड सहित खदानो से कोयले की हेराफेरी जिले में संचालित होने की जानकारी समयानुसार मिलते रहती है। प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष रुप से काले कारनामे करने वालो की संरक्षण से अधिकारी मालामाल हो रहे है विभाग की माने तो सर्वोत्तम जगह है| पुलिस हिरासत से मौत की बात हो या बिहारपुर चादनी पुलिस थाने पकडे गये शराब की जखीरा की कम मात्रा दिखाने की बात। या फिर किसी कलमकार को फ़साने की कार्यवाही | जिले की पुलिस किसी ना किसी वजह से सुर्खिया बटोरती रहती है। तबादला के बाद भी 4 माह से जमे हुये है इन उपनिरीक्षको का सूरजपुर जिले से इनका मोह-माया छुट नही पाया है। आरोपित विवादित दागदार पुलिस कर्मियो की बात की जाये तो सबसे ज्यादा पूर्व क्राईम ब्राच के प्रभारी रहे कपिलदेव पाण्डेय जी रहे। संभाग के पूर्व पुलिस महानिरिक्षक को शिकायत पत्र में उत्पात मचाते हुये नाबालिक छात्र सहित बे-गुनहगारो को जंगल मे ले जाकर चोर लुटेरो जैसी हरकत करते लाखो पैसे लुटने की शिकायत पर जांच हुई,फिर से जाँच हुई,अब विभागीय जांच कपिल देव पाण्डेय सहित 10 लोगो के विरुद्ध हो रही है| गौरतलब है की बहुमुल्य प्रतिभा के धनी,विलक्षण गुणो से परिपूर्ण कपिलदेव पाण्डेय जी भाजपा की सत्ता हो या काग्रेस की सत्ता सरकार दोनो मे सामानजस बैठाने मे बेमिशाल है ताल से ताल मिलाते हुए पूर्व के साहब हो या वर्तमान के खासम-खास बन ही जाते है । जाहिर है तबादला होने के बावजुद आज भी अंगद के पैर के समान जमे हुये हुये है। पुलिस मुख्यालय पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी के द्वारा सूरजपुर जिले के 10 उपनिरिक्षको का स्थानांतरण दिनांक 10,10,2019 को बीजापुर किया गया था जिसमे से 7 उपनिरिक्षको को तत्काल रिलिफ कर दिया गया तो वही 3 उपनिरिक्षक उच्चधिकारियों की आदेश की धज्जिया उड़ाते हुए 4 महीनो से जमे हुये है| स्थानांतरण आदेश के  क्रमांक 223 में विनीत  कुमार पाण्डेय, क्रमांक 221 कपील देव पाण्डेय के साथ क्रमांक 226 अजहरुदिन का तबादला हुए 4 माह बीत गए साथ लोकसभा चुनाव के बाद पंचायती चुनाव निपट गये पर अभी तक अपनी नवीन पदस्थापता पर नही गये ये तीन उपनिरिक्षक। इस सम्बन्ध में सूरजपुर पहुचे संभाग के पुलिस महानिरिक्षक रतन लाल डागी ने बताया कि जो तबादला हुआ है उसका परिपालन किया जायेगा, तीन उपनिरिक्षको को जल्दी ही स्थानातरित हुये स्थानो पर भेजे जायेगे। पुलिस अधीक्षक कार्यालय में पत्रकारवार्ता में आईजी सरगुजा रतन लाल डांगी ने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा को लेकर विशेष फोकस रहेगा, स्कूल, कालेज के आसपास पुलिस की मौजूदगी दिखेगी, थाना में शिकायत करने फरियादियों को उनकी शिकायत को सुनकर उचित वैधानिक कार्यवाही की बात के साथ उन्होंने कहा कि यूथ को अच्छे संस्कार दें, बेहतर पालन-पोषण अच्छी आदते विकसित करें, जिससे समाज व राष्ट्र की उन्नती हो। यूथ के किस कार्य से उनका भविष्य खराब हो सकता है उन्हें यह समझने की आवश्यकता है। व्यवहार अच्छा और बर्ताव ऐसा रखे कि युवा उनसे अच्छी चीजें सीख सकें ताकि आने वाली पीढ़ी हमें सशक्त व मजबूत मिले। इस दौरान मिडियाकर्मियों ने सूरजपुर एसपी के सुपर खास बने और कार्यकलाप से विवादित स्थानांतरण हुए 4 महीनो से जमे बिश्रामपुर थाने के प्रभारी कपिलदेव पाण्डेय के मामले में जमकर मीठी सी चुटकी ली और माहौल को खास हो गये|