स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही कही पड़ ना जाये भारी…महानगर सहित अन्य राज्यों से लौटने लगे ग्रामीण मजदुर… समादायिक स्वास्थ केन्द्र बिहारपुर भगवान भरोसे…एक भी MBBS डाक्टर नहीं है…

पप्पू जायसवाल

सूरजपुर/ बिहारपुर – समुचे देश मे कोरोना वायरस का प्रकोप देखा जा रहा है तो वही सूरजपुर जिला मुख्यालय के दुरस्थ्य क्षेत्र बिहारपुर चांदनी के 36 ग्रामपंचायत के लगभग एक हजार ग्रामीण मजदुरो को वापसी की ओर है अपने गांव । ऐसे मे अगर उन मजदुरो की स्वास्थ्य की चेकअप नही होती है स्थिति बडी विकराल होने की संभवना होगी। चिर निंद्रा मे सोई बिहारपुर क्षेत्र का स्वास्थ विभाग खुद गंभीर रुप से बीमार है ऐसे मे जिला प्रसाशन सहित स्वाथ्य विभाग के द्वारा किसी प्रकार का कोई इंतजाम नही किया गया ना ही कोरोना वायरस जैसी महामारी के संबंध मे ग्रामीणो को जागरुक किया जा रहा है। बिहारपुर का क्षेत्र मध्यप्रदेश यूपी की सीमा से लगा हुआ है यहा 102महतारी एक्प्रेस सहित 108 की सुविधा मुहैया नहीं है। स्वास्थ्य कर्मियो 3 माह हो गये दवाईया भी नही मिली है। जिला मुख्यालय से काफी दूर होने के कारण यह क्षेत्र काफी पिछड़ा है। सरकार के विकास की योजनायें यहां मात्रा सुनाई देती है. हकीकत में यहां कोई योजना परिलक्षित नहीं होती. यहां शिक्षा स्वास्थ पेयजल सडक बिजली जैसी आवश्यक मुलभुत सुविधाओ का अभाव है। हाल मे मानव तस्करी बंधक बनाये जाने के बाद बाल संरक्षण की टीम ने मौके पर पहुचकर सर्वे भी किया गया जिसमे ग्रामीण मजदूरी की तलाश में लगभग 100 की अधिक संख्या मे अन्य बडे राज्य बेंगलौर,चेन्नई,गुजरात,आंध्रप्रदेश,तेलंगाना,दिल्ली,मुम्बई,तमिलनाडु,उडीसा,हैदराबाद,अन्य राज्यो मे गये है। कोरोना वायरस के प्रकोप के मददेनजर काम कराने वाली कम्पनी ठेकेदार इन मजदुरो को वापस भेज रही है आ भी रहे है कि एक दो दिनो मे बडी संख्या मे बाहर गये ग्रामीण मजदुर वापस आ रहे है जिसना स्वास्थ परिक्षण होना बेहद जरुरी है। बिहारपुर सामुदायिक स्वास्थ केन्द्र की स्वास्थ की बात करे तो यहाँ एक भी एमबीबीएस डाक्टर नही है ना ही प्रर्याप्त स्टाफ स्वास्थ्य क्रमिया है यहाँ तक की ना पर्याप्त दवाइयों की व्यवस्था है। वेसे भी बिहारपुर क्षेत्र में बिनमौसम बरसात ओलवृतष्टि से ग्रामीण बड़ी संख्या में सर्दी खासी बुखार से ग्रस्त है सक्षम ग्रामीण मध्य्प्रदेश से इलाज करा रहे है ऐसे में महानगर से आये ग्रामीण अपने गांव वापस आ रहे है एक अजीब तरह का भय ग्रामीणों में व्याप्त है।  सीएमएचओ आर एस सिह ने बताया कि सामुदायिक स्वास्थ केन्द बिहारपुर मे 2 एमबीएसएस डाक्टर सहित 4 स्पेलिस्ट डॉक्टर का सेटअप है जबकि अभी वर्तमान मे आयुष का एक डाक्टर, सुपरवाईजर एक,स्टाफ नर्स तीन सहित एक वार्ड बाय है।  उन्होने इस पुरे मामले मे बिहारपुर सामुदायिक स्वास्थ केन्द मे एमबीबीएस डाक्टर सहित अन्य जरुरी स्वास्थ कर्मियो को भेजने की बात कही जिससे बाहर शहर से आये मजदुरो का स्वास्थ जांच किया जा सके।