जवाहर नवोदय आवासीय विद्यालय मे क्वारंटीन सेंटर बनाये जाने विरोध…. विद्यालय परिवार की महिलाओ सहित ग्राम पंचायत के लोगो ने किया….जिला प्रसाशन के लिखित जिम्मेदारी लेने पर मामले का हो सका फटाक्षेप….

राजेश सोनी

सूरजपुर-लाक डाउन मे अन्य राज्य मे फसे लोगो को बसदेइ जवाहर नवोदय आवासिय विद्यालय मे क्वारंटीन सेंटर बनाये जाने का वहा निवासरत विद्यालय के परिवार की महिलाओ सहित ग्राम पंचायत के लोगो ने विरोध किया| इस दौरान मौके पर पहुचे जिला प्रसाशन सहित बडी संख्या मे पुलिस के जवान पहुचे। विरोध पर कायम महिलाओ को मनाने 4 घंटे के अथक प्रयास के बाद जिला प्रसाशन लिखित जिम्मेदारी लेने मामले का फटाक्षेप हो सकाा।
सूरजपुर जिले के विभिन्न जगहो पर बाहरी मजदुर सहित अन्य लोगो को लाने क्वायद के मददेनजर क्षेत्र मे क्वारंटीन सेंटर बनाने की तैयारी जोरो से चल रही है तो वही क्षेत्रवासी जजावल की घटना के बाद पुरी तरह सजग हो गये है कई ग्रामीण क्षेत्रो मे क्वारंटीन सेंटर बनाये जाने का ग्रामीण विरोध कर रहे है तो वही जिला मुख्यालय के 10 किलोमीटर दुर जवाहर नवोदय विद्यालय बसदेइ मे क्वारंटीन सेंटर बनाने जा रही जिला प्रसाशन को कडा विरोध का सामना विद्यालय परिवार के साथ ग्राम के महिलाओ ने किया। विरोध पर अडे विद्यालय परिवार सहित छात्र-छात्राओ ने विद्यालय गेट का ताला बंद कर अंदर बैठकर प्रदर्शन किया तो वही ग्राम पंचायत की महिलाओ ने गेट के बाहर बैठकर क्वारंटीन सेंटर बनाये जाने का विरोध किया। 4 घंटे के प्रदर्शन के दौरान बडी संख्या मे जिला प्रसाशन व पुलिस के तमाम अधिकारी मौके पहुचे इस दौरान जिला पंचायत सदस्य क्रमांक 01 के कुलदीप बिहारी सहित विद्यालय परिवार की महिलाओ से सूरजपुर अनुविभागिय अधिकारी ने दुर्यव्यव्हार किया जिससे माहौल और उग्र हो गया मामले की नजाकत को समझते हुये जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ने मोर्चा संभालते हुये उनके अथक प्रयास साथ ही लिखित जवाब देहे देने व एसडीएम के माफी मांगने के बाद विरोध प्रदर्शन कर रहे महिलाओ को शांत करने मे सफल रहे।

ग्रामीण महिलाये

विद्यालय आवास परिवार की महिलाओ ने जजावल मे कोरोना पाजेटीव मरिज मिलने की घटना के परिपेक्ष को देखते हुये जवाहर नवोदय विद्यालय का क्वारंटीन संेटर बनाये जाने का विराध किया साथ ही असम के छात्र-छात्राये लाक डाउन के वजह से यही विद्यालय मे मौजुदगी के वजह से विरोध जताकर अपनी आशंकाओ को प्रदर्शित किया। विद्यालय परिवार की अनसुईया झा ने बताया कि 50 परिवार है 150 लोग है सामने घनी बस्ती है यहा बनाया जान को गलत बताया। रात से यहा के छात्र-छात्राओ के सामान को फेका जा रहा है जो कि यहा असम के छात्र-छा़त्राये है उनको भेजने की व्यव्स्था नही किया गया, उनका बुरा हाल है। यहा की सुरक्षा का क्या होगा। हमे रात में क्वाटर खाली कराये जा रहे है हम जाये तो कहा जाये।

विद्यालय परिसर के बाहर ग्राम पंचायत की महिलाओ जवाहर नवोदय आवास विद्यालय को क्वारंटीन सेंटर बनाये जाने का एक स्वर मे विरोध किया गया उन्होने बताया कि अगर यहा क्वारंटीन संेटर बनाया गया तो जजवाल जैसी स्थिति निर्मित हो जायेगी। प्रदशर्न कर रही महिलाओ पर पुलिस ने सख्ती कर उनको वहा खदेडा गया। जवाहर नवोदय आवासी विद्यालय मे मिडियाकर्मी के साथ भी दुर्यव्यव्हार किया गया मिडियाकर्मी ने आवास विद्यालय के महिलाओ से बात कर रहे थे तो उसी दौरान जिला पंचायत सीईओ ने भी फोटो विडियो को लेकर असंतुलित होकर तु-तु मै मै उतर गये। अन्य मिडियाकर्मियो के हस्तक्षेप के बाद आखिरकार जिला पंचायत सीईओ सयंमित हुये।

जजावल की घटना से सबक लेगे……..

जिला पंचायत के सीईओ अश्विनी देवांगन ने बताया कि कई प्रकार की शंका थी जो दुर कर दिया गया है जो मजदुर आ रहे है उनकी व्यव्स्था भी करना है साथ ही स्थानिय निवासियो की भी चिन्ता है। कैम्पस बहुत बडा है उनके लिये व्यव्स्था बनाई जा रही है जो बच्चे है उनको भेजने की व्यव्स्था की जा रही है जजावल की घटना के बाद हमे प्रेरणा मिली है अभी उससे बहुत कुछ सीख सकते है बेहतर से बेहतर करने की बात कही है।

संयुक्त कमिश्नर नवोदय विद्यालय समिति मुख्यालय नोएडा के दिनांक 24 मार्च 2020 के पत्र के आधार पर यह स्पष्ट है कि जिस विद्यालय मे प्रवर्जन के छात्र रुके हुये है उस विद्यालय को क्वारंटीन सेन्टर नही बनाया जा सकता। जो कि जवाहर नवोदय विद्यालय मे 12 प्रवर्जन के विद्यार्थी है जिनका आवास भोजन विद्यालय मे ही है।