जीवनदीप समिति दे रही स्वास्थ्य कर्मियों को प्रोत्साहन राशि….प्रदेश सरकार कोविड महामारी रोकथाम में सेवा दे रहे स्वास्थ्य कर्मियों को प्रोत्साहन राशि देने पर कर रही विचार….

राजेश सोनी
सूरजपुर-सूरजपुर जिले में कोविड महामारी रोकथाम में लगे स्वास्थय कर्मियों को जीवनदीप समिति के माध्यम से प्रोत्साहन राशि प्रदान कर रही है| जिले के स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कोविड नियंत्रण में कार्यरत कर्मियों को सरकार द्वारा तय की गई राशि उन्हें प्रदान की जा रही है । जिला कलेक्टर दीपक सोनी के अनुमोदन के पश्चात 48,600 रूपए की राशि आवंटित कर दी है। कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण नियंत्रण में देशभर के स्वास्थ्यकर्मी अपनी जान की परवाह किए बगैर समुदाय की सेवा में तत्पर हैं। छत्तीसगढ़ सरकार भी कोविड महामारी नियंत्रण एवं रोकथाम में योगदान देने वाले ऐसे ही स्वास्थ्य कर्मियों को अतिरिक्त भत्ता ( प्रोत्साहन राशि ) दिए जाने पर विचार कर रही है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से सरकार को कोविड महामारी नियंत्रण एवं रोकथाम में योगदान देने वाले ऐसे ही स्वास्थ्य कर्मियों को अतिरिक्त भत्ता दिए जाने प्रस्ताव भेजा गया है, जिसके लिए जिलेवार जानकारी मांगी गई है|कोविड-19 वैश्विक महामारी के संक्रमण की रोकथाम में स्वास्थ्य विभाग (पूरा विभाग) लगा हुआ है। परंतु ज्यादा जोखिम फील्ड में कार्य करने वाले स्वास्थ्य कर्मियों को है। इसे देखते हुए कोरोना सैंपल कलेक्शन, जांच और कोविड व्यवस्था संभाल रहे डॉक्टर, पैथोलॉजिस्ट, तकनीशियन की टीम को प्रोत्साहन राशि दिए कवायदे हो रही है। सूरजपुर में प्रोत्साहन राशि के हकदार सभी स्वास्थ्य कर्मियों को प्रतिदिन शाम 6 बजे तक दिनभर किए गए कार्य ( सैंपल कलेक्शन एवं जांच) के संबंध में संपूर्ण जानकारी सीएंमएचओ कार्यालय में देनी होती है। सूरजपुर सीएमएचओ डॉ. आर,एस. सिंह ने बताया जिले में जीवनदीप समिति से प्रोत्साहन राशि दी जायेगी| यह राशि छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा दिए जाने वाली राशी के अतिरिक्त होगी|

कार्यानुसार मिलेगी प्रोत्साहन राशि – सूरजपुर में घर-घर जाकर कोरोना जांच करने वाले डॉक्टर, पैथोलॉजिस्ट एवं तकनीशियन को प्रत्येक सैंपल 200 रूपए,  अस्पताल में कोरोना सैंपल कलेक्शन करने वाले स्वास्थ्य कर्मियों को 100 रूपए प्रति सैंपल और सैंपल का परीक्षण करने वाले स्वास्थ्य कर्मियों को 100 रूपए प्रति सैंपल प्रोत्साहन राशि प्रदान की जा रही है। सीएमएचओ डॉ. आर.एस. सिंह ने बताया जिला कलेक्टर के अनुमोदन के पश्चात 48,600 रूपए की राशि आवंटित कर दी है।

कोरबा कर्मियों को प्रोत्साहन राशि की आस – कोरबा जिले में वैश्विक महामारी कोविड -19 नियंत्रण एवं रोकथाम में लगे स्वास्थ्य कर्मियों को भी प्रोत्साहन राशि की आस है। जिले की विशेष कोविड नियंत्रण टीम ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को पत्र प्रेषित कर प्रोत्साहन राशि यथा शीघ्र प्रदान करने का आग्रह भी किया है । सीएमएचओ कोरबा डॉ. बी.बी. बोर्डे ने बताया वैश्विक महामारी कोविड-19 नियंत्रण एवं रोकथाम के लिए जिले में अलग से व्यवस्था की गई है। कोविड-19 में कार्यरत कोरबा जिले के स्वास्थ्य कर्मियों को भी प्रोत्साहन राशि शीघ्र प्रदान प्रदान की जाए, इसके लिए प्रयासरत हैं। बताते चलें कोरबा में कोविड-19 के 28 केस मिले, जो राज्य में अब तक का सर्वाधिक प्रकरण वाला जिला रहा। हालांकि सभी पॉजिटिव मरीज इलाज के बाद स्वस्थ्य होकर घर जा चुके हैं। कोविड सर्वाधिक मामले की वजह से कोविड नियंत्रण में लगे 69 स्वास्थ्य कर्मी अधिकारी एवं कर्मचारी “हेक्टिक शेड्यूल” होते हुए भी कोविड नियंत्रण के साथ सभी राष्ट्रीय कार्यक्रमों के क्रियान्वयन कर रहे हैं। बिना छुट्टी लिए कई कर्मचारी तो 24 घंटे ड्यूटी कर रहे हैं और घर भी नहीं जा रहे। प्रोत्साहन राशि के लिए बीते दिनों स्वास्थ्य संचालक, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन डायरेक्टर, कलेक्टर कोरबा एवं सीएमएचओ कोरबा से मांग की गई, उम्मीद है जल्द ही अन्य जिलों के समान कोरबा जिले के विशेष कोविड कर्मियों को भी राशि दी जाएगी।

जीवनदीप समिती एक नजर में – प्रत्येक जिले में जीवनदीप समिति  होती है जिसका अध्यक्ष जिले का कलेक्टर होता है। जिले के स्वास्थ्य संबंधी और अस्पताल के जरूरी कार्य उक्त समिति के सदस्यों की राय और कलेक्टर के अनुमोदन के पश्चात किए जाते हैं। समिति में जिले के पार्षद, विधायक भी सदस्य होते हैं। हर तीन माह में  जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में समिति की बैठक होती है जिसमें जिले के सीएमएचओ, सिविल सर्जन भी मौजूद होते हैं। समिति में फंड सदस्यों द्वारा, अस्पताल के ओपीडी, जांच शुल्क द्वारा एकत्रित होती है, जिसका उपयोग स्वास्थ्य संबंधी अति आवश्यक सेवाओं के लिए किया जा सकता है।