मनरेगा में मनमानी…वृद्ध,विकलांग, रोजगार सहायक की आंगनबाड़ी सहायिका पत्नी भी मनरेगा की मजदूर…

राजेश सोनी

सूरजपुर- जिले के रामानुजनगर ब्लाक में मनरेगा में चल रहे कार्यो में किस कदर मनमानी चल रही है। इसकी बानगी कलेक्टर से किए गए एक शिकायत में सामने आई है। बताया गया है कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, वृद्धा पेंशनधारी व विकलांग मनरेगा के मजदूर है जबकि वास्तविक मजदूर मजदूरी के लिए भटकते रहे। ग्राम पंचायत उमेशपुर का यह मामला है जहां के लोगों ने कलेक्टर को दिए एक लिखित शिकायत में आरोप लगाया है कि सरपंच व सचिव की मनमानी के कारण मनरेगा का कार्य भाईभतीजा वाद की भेंट चढ़कर रह गया है। दिए शिकायत में बताया गया है कि फर्जी मस्टर रोल के सहारे राशि आहरित की गई है। मस्टर रोल में ऐसे ऐसे मजदूरों के नाम अंकित है जिससे पूरा गांव चकित है। शिकायतकर्ताओं के मुताबिक मस्टर रोल में ऐसे नाम है जो गांव के निवासी नही है। इतना ही नही वृद्ध व विकलांग के साथ साथ रोजगार सहायक की आंगनबाड़ी सहायिका पत्नी भी मनरेगा की मजदूर है। जिसके नाम से सबसे अधिक कार्य करना बताया गया है। रोजगार सहायक की पत्नी के साथ साथ माता पिता, बहने मजदूरों की सूची में शामिल है। महिला सरपंच के पति भी मजदूर हैं जिनके सभी के नाम से राशि आहरित की गई है। ग्रामीणों का आरोप है कि गांव में कई ऐसे परिवार है जिन्हे रोजगार की जरूरत है और वे रोजगार के लिए सरपंच सचिव से मिन्नतें करते रहे पर उन्हे रोजगार नही दिया गया। ग्रामीणों ने समूचे साक्ष्य के साथ कलेक्टर को शिकायत देकर जांच उपरांत कार्रवाई की मांग की है।