पुलिस की गुण्डा गर्दी चरम पर……..ग्रामीणो को झुठे आरोप में फसाकर जमकर की मारपीट….आहत ग्रामीण कोयले तस्करी का कर रहे थे विरोध…..

राजेश सोनी
सूरजपुर-जिले में पुलिस की गुण्डागर्दी चरम पर है पुलिस पिटाई से मौत का मामला हो या किसी कार्यवाही का.. यहा की पुलिस किसी ना किसी तरह से सुर्खियो में बने रहते है अपराधो को बढावा देने की और काली कमाई से मालामाल होती झिलमिली(भैयाथान) पुलिस तस्करो से मिलकर ग्रामीणो पर जुल्म करने से बाज नही आ रही है। कोल तस्कर के इशारे पर अवैध कोयला उत्खनन को संरक्षण दे रही भैयाथान पुलिस का विरोध करने पर पूर्व सरपंच समेत अन्य आदिवासियों की भैयाथान पुलिस ने की जमकर पिटाई और भेज दिया जेल…. पुलिस की पिटाई से गंभीर रूप से घायल एक आदिवासी ग्रामीण जिला चिकित्सालय में कर रहा है जीवन और मृत्यु से संघर्ष। प्राप्त जानकारी के अनुसार भैयाथान जनपद क्षेत्र के झिलमिली थाना अंतर्गत ग्राम पंचायत बसकर से लगे जंगल से इन दिनों कोयले का अवैध उत्खनन सत्ताधारी नेताओं के द्वारा किया जा रहा है इन नेताओं को भैयाथान पुलिस का विशेष संरक्षण प्राप्त है विगत 5 जनवरी को भी हमेशा की भांति जंगल से अवैध कोयला उत्खनन और परिवहन करने माफिया नेता कि वाहन पहुंची थी जिसका स्थानीय ग्रामीणों के द्वारा विरोध किया गया तो पुलिस ने कार्रवाई करने की बजाय आदिवासी ग्रामीणों को ही झूठे प्रकरण में फंसा कर जेल भेज दिया इतना ही नहीं पुलिस के जवानों ने थाना प्रभारी की उपस्थिति में पहले तो वाहन में तोड़फोड़ की और फिर आग लगाकर अवैध उत्खनन का विरोध करने वाले ग्रामीणों को थाने में तलब किया और वहां उनकी जमकर पिटाई की और फिर झूठा प्रकरण तैयार कर जेल भेज दिया पुलिस की बर्बरता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है की पुलिस की पिटाई से गंभीर रूप से घायल हुए एक ग्रामीण को परिजनों और ग्रामीणों के सहयोग से जिला चिकित्सालय सूरजपुर में भर्ती कराकर उपचार कराया जा रहा है घायल आदिवासी ग्रामीण की स्थिति नाजुक है और वह जीवन और मृत्यु से जूझ रहा है इस घटना को लेकर बड़सरा और बसकर में तनाव का माहौल है और ग्रामीण जन उदेलीत होकर वृहद आंदोलन करने के मूड में है।

घर के अंदर महिलाओं के सामने अधमरा किया आदिवासी भारत सिंह को…….

पुलिस की बर्बरता इतनी की महिलाओं को कर दिया बंद और दरवाजा तोड़कर आदिवासियों को उठाकर ले गए झिलमिली थाना…आदिवासी ग्रामीण भारत सिंह को अधमरा करने के बाद घर लाकर छोड़ा स्थिति नाजुक देख ग्रामीणों ने जिला चिकित्सालय में कराया भर्ती।
पुलिस की कहानी मे बताया गया कि एएसआई हितेश्वर राजवाड़े सहित अन्य पुलिस कर्मी 5 जनवरी के सूचना पर तहकीकात करने गए हुए थे कि तभी बस्कर जंगल में अवैध रूप से कोयला रखा हुआ था। इस दौरान पुलिस कर्मियों ने अवैध कोयला को लेकर पूछ- ताछ कर रहे थे कि तभी समय जगनारायण सिंह, जयप्रकाश, मोहन सिंह, भारत सिंह, प्रदीप सिंह, हाथ में डण्डा लेकर तथा बलजीत सिंह, सुनम प्रताप सिंह अपने हाथ में टांगी लेकर माँ बहन की बुरी बुरी गाली गलौज कर पुलिस कर्मियों के साथ मारपीट करने लगे। तथा ट्रेक्टर में आग लगा दिये है एवं शासकीय वाहन को भी नुकसान पहुचाया गया है। पुलिस ने अपने स्टाफ की शिकायत पर 147, 148, 149, 186, 332, 353, 435, 294, 506, 323, 427, 120(इ) सहित अन्य धारा लगाकर 5 आरोपी को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया है।