अतरिक्त आय का साधन बना मधुमक्खी पालन

सूरजपुर- कृषि बाहुल्य सूरजपुर जिले मे किसानो को जहां एक ओर मौसम और कृषि संसाधनो के अभाव मे आर्थिक संकट का सामना करना पङता है,,,,वही शासन प्रशासन कृषको को कृषि के तरीको मे बदलाव और कृषि संबंधित अन्य व्यवसाय को बढावा दिलाने के लिए प्रयास करने का दावा करते नजर आती है,,,,ऐसे मे ही शासन के द्वारा किसानो को मधुमक्खी पालन के लिए जागरुक करने अभियान चला रही है,,,,लेकिन प्रशासन जिले मे मधुमक्खी पालन केवल हाथी प्रभावित क्षेत्रो मे ही किसानो को लाभ दे रही है,,,,वही सब्जी उत्पादन वाले सिलफीली क्षेत्र का एक किसान अर्जुन कुश्वाहा जो पिछले तीस वर्षो से एक एकङ जमीन पर मधुमक्खी पालन कर अपनी आजिविका को दुरुस्त कर रहा है,,,साथ ही दुसरे किसानो को कृषि के साथ मधुमक्खी पालन करने के लिए जागरुक भी कर रहा है,,,किसान अर्जुन ने बताया कि सिलफिली जैसे क्षेत्र मे प्रशासन किसानो को मधुमक्खी पालन का लाभ नही दे रहा है,,,,वही अर्जुन एक एकङ जमीन पर देशी मधुमक्खीयो कि दस पेटी मे पालन कर रहा है,,,,जिससे उसे कृषि के साथ हजारो रुपए कि आमदनी हो रही है,,,वही अगर प्रशासन उसे लाभ दे तो शायद अच्छी प्रजाती के मधुमक्खी पालन से अभी के आमदनी से चार गुना ज्यादा लाभ मिल सकेगा,,,,हालाकी जिले के कलेक्टर को अर्जुन कि जानकारी लगने के बाद बताया कि दुसरे किसानो को भी लेकर अर्जुन कि मधुमक्खी पालन को दिखाकर उन किसानो को भी जागरुक किया जाएगा और किसान अर्जुन को भी लाभ दिलाने कि बात करते नजर आए,