उखडती सांस, टुटता परिवार, उसके साथ मौतो की रफ्तार कम होने का नाम नही ले रहा….

कोविड अस्पताल पहुचे जिला प्रशासन व पुलिस की टीम…. कोविड अस्पताल में नदारद रहने वाले चिकित्सक सहित 8 को कारण बताओ नोटिस दिया गया.

राजेश सोनी
सूरजपुर. मुख्यालय के कोविड अस्पताल में लगातार हो रही मौत के साथ स्वास्थ सुविधा उपचार पर देवलोक न्यूज़ ने लगातार खबर प्रकाशित कर कोविड अस्पताल की दुर्दशा को प्रशासन अवगत कराते आ रहा. लेकिन व्यव्स्था सुधारने के बजाय और विकराल होते जा रहा है आज भी मौतो का सिलसिला रुकने के बजाये बढते ही जा रहा है कोविड अस्पताल में मृतक के साथ में रहने वाले परिजन लगातार कोविड अस्पताल की बदहाल स्वास्थ व्यव्स्था पर प्रश्न खडा कर रहे है लाशे कई घंटो तक अन्य मरीजो के साथ पडे रहते है. शव लेने के लिये तो मिन्नते करनी पड़ती है. देर शाम जिले के कलेक्टर रणबीर शर्मा कोविड अस्पताल पहुचे और वहा की अव्यव्स्थाओ को देखकर दंग रह गये. आज भी मृतक के परिजनो ने कोविड अस्पताल में हो रहे उपचार की कलई खोल रहे है. अब मरीज जिले के प्रशासनिक अधिकारियों को फोन लगाकर यहा की हकीकत बया कर रहे है तो वही कुछ ऐसे भी जो लिखित में अपनी आप बीती दे रहे है. भैयाथान क्षेत्र की रहने वाली प्रिया जो खुद नर्स है बताती है कि 9 मई को अपनी दादी और दीदी दोनो को लेकर कोविड अस्पताल में भर्ती थी यहा पर दोनो का उपचार मे अव्यव्स्था है दवा भी नही देते है बीती रात तबियत ज्यादा खराब होने मै मदद मांगी लेकिन नही मिला और अंत में दादी की मौत हो गई. खुद स्वास्थ सेवा से जुडी हुं जब मेरी दादी की मौत हो गई तो सीपीआर दे रहे है. इसी तरह बंजा के रहने वाले मृतक के बेटे ने कलेक्टर के नाम लिखित शिकायत में बताया कि वे अपने पिता को 10 मई को अस्पताल मे भर्ती किया था वहा के डाक्टरों से इलाज के लिये गुहार लगाते रहा लेकिन मेरे पिता को देखने तक नही आये आज भोर में उनकी मौत हो गई. उन्होने बताया कि अगर सही समय पर इलाज हुआ रहता तो आज हम सब के बीच जीवित होते. मृतक के बेटे ने डाक्टरो के लापरवाही से हुई पिता की मृत्यु पर कडी कार्यवाही करने की गुहार लगाई है.
ससुर दामाद दोनो की हुई कोविड से मौत
नगर के गोपालपुर मोहल्ले के 70 वर्षीय बुजुर्ग लल्लुराम और उसका दामाद संत सिह 38 वर्ष निवासी कोटमी दोनो कोरोना संक्रमित हो गये थे दोनो को स्थानिय कोविड अस्पताल में भर्ती कराया गया था किन्तु उपचार के अभाव में संत सिह की हालत ज्यादा बिगडने पर उसे यहा से अंम्बिकापुर रेफर कर दिया गया और अत्यधिक हालत बिगडने पर उसे वहा से भी रायपुर रेफर कर दिया गया रास्ते में ले जाते समय उसकी मौत हो गई. जबकि उसके ससुर लल्लुराम का भी यहा का कोई उपचार नही हुआ जिससे उसकी भी मौत हो गई.
शव के लिये भटकते परिजन, दर्ज कराई शिकायत
कोविड अस्पताल में आज भी तडके से दोपहर तक 4 लोगो की मौत हुई परिजनो ने बताया कि जिनकी मौत तडके 4 बजे हुई थी उन्हे कोविड अस्पताल के बेड से भी घंटो तक नीचे नही उतारा गया परिजनो ने कलेक्टर से उक्ताशय की जब शिकायत की तो उनके हस्तक्षेप से मौके पर राजस्व अधिकारियों के भेजने के उपरांत दोपहर में परिजनो को शव मिला इसके अलावा परिजनो ने मौके पर पहुचे अधिकारियों से लिखित और मौखिक शिकायत कर बताया कि इस कोविड अस्पताल में उपचार की कमी है लोग चिकित्सक और नर्स से दवाई इंजेक्शन के लिये मिन्नते करते रहते है किन्तु वे टस से मस नही होते.
कोविड अस्पताल के चिकित्सक,नर्स,स्टाफ सहित 8 को दिया गया नोटिस
मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 आर0एस0 सिह ने 12 मई को कोविड अस्पताल में लगाये डयुटी से अब तक नदारद रहने वाले चिकित्सक,स्टाफ नर्स,ड्रेसर,वार्ड ब्याय,आया सहित 8 को नोटिस जारी करते हुये स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने को कहा गया है नही तो अनुशासनात्मक कार्यवाही करने की बात कही है गत 12 मई से अब तक कार्य से नदारत चिकित्सक विपुल पाण्डेय,ड्रेसर सुर्यभान तिवारी, रामबहोर ड्रेसर, स्टाफ नर्स शशिलता, स्वच्छक संतलाल, वार्ड ब्वाय समय लाल,ज्ञानेन्द्र सांडिल्य वार्ड ब्याय, वार्ड आया उर्मिला देवी को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है.