कोरोना कम, लेकिन खत्म नहीं। मास्क का उपयोग नहीं,सोसल डिस्टेंस भी भूले।कलेक्टर का निर्देश दरकिनार कर देर रात तक खुल रही है बस स्टैंड की दुकानें।।

बैजनाथ केशरी

रामानुजगंज———–  नगर सहित क्षेत्र में कोरोना संक्रमण का असर कम देखने को मिल रहा है जहां कोरोना से लोगों में धीरे-धीरे डर खत्म होते जा रहा है वही अब लोग मास्क एवं सोशल डिस्टेंस का पालन भी नहीं कर रहे हैं यही नहीं दोनों राज्य छत्तीसगढ़ और झारखंड के पुलिस आरक्षक एवं अन्य विभाग के लोग अपने-अपने सरहद पर तैनात होकर आने जाने वाले वाहनों में बैठे लोग का एंट्री पास या फिर कोविड रिपोर्ट जांच के बाद ही उन्हें जाने दिया जा रहा है। लेकिन यह सब के बीच जो व्यक्ति झारखंड राज्य से पैदल चले आ रहे हैं उन्हें कोई जांच नहीं की जा रही है।  2 राज्यों के प्रशासनिक निर्देश पश्चात आने जाने वाले लोगों को काफी परेशानियों का सामना भी करना पड़ रहा है लोग झारखंड राज्य के ग्राम गोदरमाना से पैदल कनहर पुल पार करके यात्री बस मैं बैठेते है लोग रोजाना सैकड़ों की तादाद में आ रहे हैं। गौरतलब है कि कुछ दिन पूर्व कोरोना वायरस के बढ़ते हुए संक्रमण को हम लोगों को भूलना नहीं चाहिए झारखंड और छत्तीसगढ़ राज्य के प्रशासन के द्वारा दोनों राज्यों के कोई भी व्यक्ति बिना एंट्री पास या फिर कोविड जांच के प्रवेश ना कर सके इसके लिए पुलिस स्वास्थ्य एवं अन्य विभागों के लोगों को तैनात की गई है । बॉर्डर पर तैनात हुए लोगों के द्वारा सक्रियता से जांच की जा रही है परंतु प्रश्न यह उठता है कि जो व्यक्ति अपने वाहन से दोनों राज्यों में प्रवेश करता है तो उन्हें उक्त जांच से गुजारना पड़ता है लेकिन जब कोई व्यक्ति पैदल आता है तो उसकी कोई पूछ परख नहीं होती।।

झारखंड में 8 जुलाई तक है लॉकडाउन———– कोरोना के कारण झारखंड राज्य में 8 जुलाई तक लॉकडाउन लगा हुआ है लेकिन इस राज्य से अपने छत्तीसगढ़ की ओर आने वालों की तादाद कम नहीं है। रोजाना सैकड़ों की तादाद में लोग अंबिकापुर, रायगढ़, कोरबा ,बिलासपुर और रायपुर के लिए आ रहे हैं लेकिन कोई भी यात्री बस छत्तीसगढ़ प्रवेश नहीं हो रही है और ना ही अपने प्रदेश के यात्री बस झारखंड जा रही है ऐसी स्थिति में यात्री बस दोनों प्रदेश के सरहद पर रुक जा रही है और यात्री काफी परेशान हो रहे हैं दो प्रदेश के प्रशासनिक व्यवस्था के कारण लोगों के आने जाने मैं काफी दिक्कत हो रही है खुद और अपने बच्चों के साथ पैदल यात्री बस पकड़ने पहुंच रहे हैं।।

मास्क और सोशल डिस्टेंस में रहना भूले लोग———- कोरोना के संक्रमण क्षेत्र में कम हुआ है लेकिन खत्म नहीं हो पाया है इसके बीच लोग सोशल डिस्टेंस में नहीं रह पा रहे हैं वही मास्क का उपयोग भी नहीं कर रहे हैं। इसका पालन कराने हेतु पुलिस या फिर अन्य प्रशासनिक अधिकारी भी कोशिश नहीं कर रहे हैं।  जो कोविड नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं आलम यह है कि नगर सहित क्षेत्रों में कोविड नियमों का जमकर उल्लंघन हो रही है।।

देर रात तक खुली रहती है दुकाने, कार्यवाही बिल्कुल नहीं—————- कोरोना को देखते हुए नवनियुक्त कलेक्टर इंद्रजीत एस चंद्रावल ने जिले में प्रातः 8 से रात्रि 8 बजे कुल 12 घंटे तक दुकान एवं अन्य व्यापारिक प्रतिष्ठान खोलने का आदेश पारित किया है लेकिन प्रशासनिक निष्क्रियता के कारण कलेक्टर के आदेशों का दरकिनार कर नगर के बस स्टैंड ,चांदनी चौक में देर रात तक दुकान अभी भी खुल रही है यही नहीं रात्रि कालीन में शांति व्यवस्था बनी रहे इसके लिए पेट्रोलिंग करने वाली पुलिस भी कार्यवाही करने में अपनी जुर्रत नहीं जुटा पा रहे हैं जिसके कारण उक्त जगह पर रात्रि 11 बजे तक दुकानें खुल रहे हैं वही लोगों के भीड़ भी देखा जा सकता है जो बिना मास्क और सोशल डिफेंस के देखे जा सकते हैं । यदि ऐसा ही स्थिति बना रहा है और लापरवाह लोगों के विरोध प्रशासन कार्रवाई नहीं करती है तो आने वाला समय घातक होने से कोई नहीं बचा सकता।।