वन विभाग के संरक्षण में हजारों एकड़ जमीन पर अवैध कब्जा…हरे भरे वृक्षों को काटकर किया जा रहा जंगल की जमीन पर कब्जा….

सुभाष गुप्ता

सूरजपुर . प्रदेश सरकार वृक्षों को संरक्षित करने के उद्देश्य से वृक्षारोपण कराए जाने हेतु अपील की जा रही है साथ ही किसानों को वृक्षारोपण करने पर प्रोत्साहन राशि की भी योजना बनाई गई है लेकिन जंगल विभाग के अधिकारी व् कर्मचारियों द्वारा वृक्षों को कटवा कर जंगल की जमीन में अवैध कब्जा कराने में संरक्षण देने का कार्य कर रहे हैं जिससे जंगलों का अस्तित्व खतरे में दिखाई दे रहा है. जिले के ओड़गी विकास खंड के वन परिक्षेत्र बिहारपुर के अंतर्गत महुली,कछवारी, चौगा,व कोल्हुआ के जंगलों के हरे भरे वृक्षों को काटकर काबिज किया जा रहा है और जंगल की जमीन पर ही ग्रामीण घर संसार बसा रहे है.

कार्यवाही जो महज कागजों में

कुछ दिनों पहले कई अवैध कब्जाधारियों ने वन विभाग की जमीन पर घर बनाया जा रहा था. जिसकी सूचना मिलने पर वन विभाग के रेंज स्तर के वन कर्मी मौके पर पहुचकर निर्माण को किसी तरह रोक दिया गया था साथ ही वहा पर पेड़ लगाने के लिए गड्ढा की खुदाई की थी. अब जिस जगह पर विभाग ने अतिक्रमण हटाया था वहा पर घर बनाकर फसल उगाया जा रहा. वही पर 25 से 30 एकड़ की भूमि जिसमें एक सप्ताह पहले सागौन की पौधे लगाए गये थे अतिक्रमणकारियों ने लगाये गये पेड़ को उखाड़ कर फेंका जा रहा. दबी जुबान में ग्रामीणों ने बताया कि क्षेत्र के अधिकारी एवं अवैध कब्जा धारियों के मिलीभगत होने के कारण किसी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं होने से उसका हौसला बुलंद है. बिहारपुर वन परिक्षेत्राधिकारी मेवालाल पटेल के अतिक्रमण हटाने की बात कही थी लेकिन कार्यवाही कागजो में ही सिमटी रही. अब फिर से बड़े पैमाने पर अतिक्रमणकारी वनभूमि पर लगे पेड़ को काटकर काबिज होने में लगे है.

फिर से वही अधिकारी

उल्लेखनीय है कि 2 वर्ष पहले भी यही रेंजर साहब थे जब कछवारी में अवैध रूप से घर बनाया जा रहा था जिसे ग्रामीणों द्वारा लगातार क्षेत्र में अवैध कब्जा की शिकायत होने से उन्हें तबादला कर दिया गया था. लेकिन फिर से बिहारपुर क्षेत्र के कार्यभार संभाले ही क्षेत्र के ग्राम पंचायत महुली, चौगा, कछवारी,कोल्हुआ सहित अन्य कई गाव के जंगलों में धड़ल्ले से हरे भरे पेड़ों को काट कर हजारों एकड़ जमीन पर अवैध कब्जा किया जा रहा है. जिसमे वन विभाग की संलिप्तता प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष रूप से समाहित है.

क्षेत्र के जंगल साफ होने में लगे

अगर यही स्थिति रही तो कुछ दिन बाद जंगल की जमीन पर हरे भरे पेड़ो की जगह सपाट मैदान नजर आयेगे. बहरहाल सब कुछ अवगत होने के बावजूद अतिक्रमणकारियो पर कार्यवाही नहीं करने से अतिक्रमणकारियों के हौसले बुलंद है.

अब अवैध कब्जे धारियों के द्वारा काफी बड़े क्षेत्रों में अवैध कब्जा किया जा रहा है जिसमें हमारे द्वारा जहां जहां अवैध कब्जा किया जा रहा है वहां पौधारोपण करवाया जाएगा अभी वर्तमान में मैं दूसरी जगह पर हूं अब बहुत जल्द कार्रवाई कर अवैध कब्जा वालों को हटाया जायेगा-मेवालाल पटेल रेंजर वन परिक्षेत्र बिहारपुर