इस जिले में बिना रिश्वत के काम नही होते….किसान ने पटवारी पर लगाया आरोप…पैसा लेकर नहीं किया काम… विधायक से की शिकायत…

राजेश सोनी
सूरजपुर. जिले में रिश्वतखोरी भ्रष्टाचार पर कार्यवाही नही होने की दशा में बडी तेजी से बढती ही जा रही है. हालाकि कुछ दिनो पहले एसडीएम कार्यालय के लिपिक व प्रतापपुर के प्रार्चाय पर रिश्वत लेते एन्टी करप्शन ब्यूरो की टीम ने रंगे हाथ गिरफ्तार भी किया था. लेकिन रिश्वत की लाईलाज बिमारी जिले के आम लोगो को और बिमार कर रहे है. रिश्वत लेने का ताजा मामला बिहारपुर चांदनी के अवंतिकापुर का सामने आया है यहा के रहने वाले श्याम कार्तिक वैश्य ने पटवारी पर रिश्वत लेने के बाद भी जमीन आन लाईन नही चढाने का आरोप लगाया है. पुरे मामले की लिखित शिकायत भटगांव विधायक से करते हुये रिश्वत खोर पटवारी पर कार्यवाही करने की मांग की है. शिकायत में बताया गया कि पिडित का जमीन को ऑनलाइन में चढ़ाने के लिए किस्तों में 11500 सौ रुपए हल्का पटवारी को दिया था. पिडित का आरोप है कि उसके पिता रामनिवास बैस के नाम पर खसरा नंबर 128/2,130 की जमीन है जो कि वर्तमान में आनलाइन नहीं हुआ है उसी कार्य के लिए वह पटवारी के पास वर्ष 2019-20 में सलाह लेने के लिए गया था और वही हल्का पटवारी द्वारा बोला गया कि काम हो जायेगा लेकिन पैसा लगेगा और पहली बार 500 रूपए और दुसरी बार 5000 हजार रुपए इसके बाद पटवारी का डिमांड बढ़ते गया और उच्च अधिकारियों के नाम पर पुनः 5000 हजार देने के बाद भी घुमाता टालता रहा. पिडित ने तहसीलदार कार्यालय से 18 अगस्त को आदेश का भी कराया था इसके बावजुद मौका जांच करने के नाम पर पटवारी ने 1000 हजार रुपए लिया भी उसके बाद लगभग तीन माह बीत जाने के बाद भी पटवारी ना तो किसान का मौका जांच किया गया ना ही आनलाईन नाम चढाये. पिडित ने अब तक 11500 रुपए दे दिये है पिडित ने भटगांव विधायक पारस नाथ राजवाडे से शिकायत कर हल्का पटवारी पर कार्यवाही करने की मांग की है. गौरतलब है कि जिले में रिश्वत लेना आम बात हो गई है और कार्यवाही न होने पर रिश्वतखोर अधिकारी कर्मचारियों के हौसले बुलंद है.