रोशनी के त्योहार पर कई गांव में छाया रहा अंधेरा….कई गांव मोहल्ले में विद्युत विस्तार नही हुआ…

पप्पु जायसवाल
बिहारपुर. दीपावली के दिन लोग अपने घरों को रोशनी से जगमग कर देते हैं. यहां तक की लोग गांव के हर गली, सड़क और मोहल्ले में भी दिये जलाते हैं. लेकिन इसे विडबना ही कहा जा सकता है डिजिटल इंडिया के युग में आज भी जिले कई गांव ऐसे है दीवाली के दिन भी अंधेरे में डूबा रहा.
10 महिने से सौर पावर प्लांट है ठप्प
जिले के सुदूर गांव रामगढ के गवटियापारा में लगे सौर पावर प्लांट 10 महिने से ठप्प पडी हुई है. गांव वालों के कई शिकवा शिकायत के बाद भी क्रेडा विभाग ने गांव में ठप्प पडे प्लांट को ठीक करने की जहमत नहीं उठाई. लिहाजा रोशनी पर्व पर गांव में अमावस की काली छाया छाई रही. ग्रामीणों का कहना है कि आये दिन प्लांट ठप्प होते रहता था विभाग पुरानी बैटरिंया लगाता रहता था, कुछ दिन ठीक रहने के बाद फिर से वही परेशानी होती रहती थी अब तो 10 माह हो गये पावर प्लांट पुरी तरह से ठप्प पडा हुआ है ग्रामीणों ने कई बार क्रेडा विभाग सहित जिला प्रशासन के चक्कर भी कांटे लेकिन उनकी कोई सुनवाई नहीं हुई.
कई गांवों के ग्रामीण है परेशान
जिले के बिहारपुर चांदनी क्षेत्र में कई गांव ऐसे है जहा पर विद्युत सुविधा का विस्तार नही हुआ है आज भी ग्रामीणो के घरो पर लालटेन देखी जा सकती है गांव के पढने वाले छात्र लालटेन की रोशनी में पढने को मजबुर है डिजिटल इंडिया के युग में सरकार ने कुछ गांव में क्रेडा विभाग के द्वारा लगाया गया सौर एनर्जी से चलने 25 सौ परिवारों के मकानों में होम लाइट के लिए एक बैटरी, एक सोलर प्लेट और चार बल्ब लगाए गए, लेकिन उनकी भी क्वालिटी खराब थी और वे भी अधिकांश खराब हो गए हैं जबकि इसे 2018 में ही लगाया गया था. ग्रामीणों का कहना है कि प्लांट और होम लाइट जिस भी कंपनी या फर्म ने लगाया है उससे मरम्मत कराया जाना चाहिए.

30 करोड़ खर्च कर ओड़गी ब्लाॅक के चांदनी बिहारपुर इलाके के ग्राम पंचायत रामगढ़ के गोटिया पारा,के दस माह के बीच सौर प्लांट खराब हुए हैं. इसकी जानकारी पंचायतों ने अधिकारियों को दी है ग्रामीणों का कहना है कि जनसंवाद कार्यक्रम बिहारपुर में उन्हें शिकायत की थी. इसके बाद उनके द्वारा कई बार आश्वासन के साथ कहा गया कि नया बैटरी लगाने के लिए आर्डर दिया गया है लेकिन इसके बाद भी सौर प्लांट को ठीक नहीं किया जा सका है।
केरोसिन और आग के सहारे पढ़ाई
गांव के ग्रामीणों ने बताया कि सौर प्लांट जब लगा था तब उन्हें उम्मीद थी कि अब गांव रोशन रहेगा लेकिन क्रेडा विभाग द्वारा सही तरीके से मेंटेनेंस नहीं करने के कारण प्लांट बन्द हो गया हालात यह है कि यहां बच्चे दिन भर गाय बैल चराते हैं तो रात में बिजली नहीं होने से पढ़ाई नहीं कर पाते वहीं कुछ बच्चे जिनके माता पिता जागरूक हैं वे केरोसिन की ढिबरी जलाकर पढ़ाई करते हैं तो वहीं गांव में जंगली जानवरों का डर बना रहता है क्योंकि चारों तरफ जंगल है और राष्ट्रीय गुरुघासीदास अभ्यारण्य क्षेत्र है कई परिवारों ने टीवी खरीदा लेकिन अब बिजली के अभाव में टीवी भी बंद रहता है.
इस महीने में रायपुर से नई बैटरी पहुंच जाएगी, ओवरलोड से खराबी
क्रेडा विभाग के उप अभियंता कृष्ण मोहन प्रशांत का कहना है कि रामगढ़ गोटिया पारा का बैटरी आर्डर हो गया है दीपावली होने से नहीं आ पाया दीपावली के दो-तीन दिन बाद लग जाएगा और इस क्षेत्र के जहा भी प्लांट खराब हैं वहां बैटरी खराब हुई हैं आर्डर हो गया है.इस महीने के भीतर रायपुर से बैटरी आ जाएगी.