रेत ओवरलोड परिवहन से लाखों रुपये के राजस्व की हानि…ओवरलोड परिवहन से सड़के हुई जर्जर…बिना कांटा पर्ची के उत्तरप्रदेश जा रहा रेत वाहन…

राकेश जाटव

बलरामपुर-जिले के धनवार अंतरराज्यीय आरटीओ चेक पोस्ट से इन दिनों रेत का ओवरलोड परिवहन धड़ल्ले से किया जा रहा है ,जिससे शासन को रोजाना लाखों रुपये के राजस्व की हानि हो रही है साथ ही ओवरलोड परिवहन से सड़क भी जर्जर हो रही है ,जिसको लेकर अब जनप्रतिनिधि ओवरलोड पर अंकुश लगाने के लिए धरना प्रदर्शन की बात कह रहे है तो वही मामले में आरटीओ के अधिकारी चेक पोस्ट पर वजन मशीन नही होने और स्टाफ की कमी का हवाला देकर अपनी जिम्मेदारियों से बचते नजर आ रहे है वहीं ट्रक चालक पैसे देकर आसानी से वाहन लेकर जा रहे हैं.

गौरतलब है कि बसन्तपुर थाना क्षेत्र के धनवार अंतरराज्यीय आरटीओ चेक पोस्ट का है जहाँ पर इन दिनों सूरजपुर जिले से बड़ी संख्या में रेत की ओवरलोड गाड़िया बिना कांटा पर्ची के धड़ल्ले से उत्तरप्रदेश जा रही है जिससे राजस्व की हानि तो हो रही है तो वही ओवरलोड परिवहन की वजह से अम्बिकापुर बनारस मार्ग जर्जर हो चुका है ,जिसका खामियाजा जिले वासियो को भुगतना पड़ रहा है. राजस्व की चोरी को रोकने के लिए धनवार गांव जो कि छत्तीसगढ़ और उत्तरप्रदेश का सीमावर्ती गांव है यहां पर आरटीओ ,खनिज,वन विभाग और कृषि उपज मंडी के अलग अलग चेक पोस्ट बनाये गए है और सबकी अलग अलग जिम्मेदारी भी तय की गई है बावजूद इसके शासन को रोजाना लाखो रुपये की राजस्व की हानि हो रही है पड़ोसी जिला सूरजपुर से ओवरलोड रेत लेकर उत्तरप्रदेश जा रहे ट्रक ड्राइवरों का कहना है कि उनके पास कांटा पर्ची तो नही है लेकिन आरटीओ चेक पोस्ट में पैसे देकर गाड़ी की इंट्री करा दी जाती है तो कुछ ड्राइवरों का कहना है कि उनके मालिक द्वारा आरटीओ की बात हो जाती है जिसके कारण उनके गाड़ियों की कांटा पर्ची जी जांच आरटीओ चेक पोस्ट पर नही की जाती है ,,वही रेत के ओवरलोड परिवहन को लेकर पूर्व में धनवार चेक पोस्ट पर पूर्व जिला पंचायत सदस्य धीरज सिंह देव की अगुवाई में हप्ते भर धरना प्रदर्शन भी किया गया था,जिसके बाद प्रशासन द्वारा ओवरलोड परिवहन पर पूर्णतः अंकुश लगाने का आस्वासन भी दिया गया था इसके बाद भी धड़ल्ले से रेत का ओवरलोड परिवहन किया जा रहा है जिसको देखते हुए धनवार चेक पोस्ट पर रेत के ओवरलोड परिवहन पर अंकुश लगाने के लिए फिर धरना प्रदर्शन की बात कही जा रही है वही पूरे मामले में आरटीओ चेक पोस्ट में तैनात अधिकारी भी मान रहे है कि शासन के नियमानुसार लोड गाड़ियों में कांटा पर्ची होना अनिवार्य है अभी तक चेक पोस्ट पर वजन मशीन नही लगाया गया है ,जिससे गाड़ियों का वजन नही हो पाता है और चेक पोस्ट पर स्टाफ की कमी का हवाला देकर अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ रहे है. खुलेआम चेक पोस्ट पर पैसे लेकर ट्रक को छोड़ने का खेल पुराना है जब जब खबरें मीडिया में आई तब अधिकारी कुछ गाड़ियों में कार्रवाई करके अपना कोरम पूरा कर लेते हैं लेकिन उसके बाद शुरू हो जाता है फिर से वही खेल..